Delhi Air Pollution/NCR Air Pollution: दिल्ली में बढ़ रहे वायु प्रदूषण के बीच दिल्ली में स्कूल खोले जाने के मामले को सुप्रीम कोर्ट ने गंभीरता से लेते हुए दिल्ली सरकार को फटकार लगाई है. कोर्ट ने दिल्ली सरकार से पूछा है कि प्रदूषण के बीच स्कूल क्यों खोले गए हैं. जब बड़े लोगों के लिए दिल्ली में वर्क फ्रॉम होम लागू किया गया है तो आखिर बच्चों के लिए स्कूल क्यों खोले गए हैं. इस मामले पर सुनवाई के दौरान जस्टिस सूर्यकांत ने युवआओं को लेकर भी दिल्ली सरकार को फटकार लगाई है.Also Read - सुप्रीम कोर्ट ने EC और केंद्र को जारी किया नोटिस, कहा- सार्वजनिक पैसों से मुफ्त की चीजें बांटने वालों का पंजीकरण हो रद्द

बता दें कि दिल्ली में स्कूल खोले जाने को लेकर बच्चों ने सड़क किनारे बिना मास्क पहने कार का इंजन बंद करने का संदेश देते हुए प्रदर्शन किया है. कोर्ट ने दिल्ली सरकार को लेकर कहा कि आप कह रहे हैं कि दिल्ली में वर्क फ्रॉम होम लागू किया है, स्कूल बंद हैं. लेकिन ऐसा वास्तव में दिख नहीं रहा है. कोर्ट ने कहा कि आप रोज हलफनाम पेश करते हैं, कमेटी रिपोर्ट दे रहे हैं लेकिन ग्राउंड पर क्या हो रहा है. Also Read - Reliance Vs DMRC: सुप्रीम कोर्ट ने कहा, समझौते के लिए बातचीत का सवाल ही नहीं

दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण के हालात (Delhi Air Pollution/NCR Air Pollution) Also Read - Supreme Court का आदेश- ट्विन-टावर में घर खरीदारों को ब्याज सहित रकम वापस करे सुपरटेक, समय सीमा 28 फरवरी तक

लोधी रोड पर वायु गुणवत्ता सूचकांक 339 दर्ज किया गया है. वहीं एनसीआर के गाजियाबाद (387), ग्रेटर नोएडा (358), गुरुग्राम (360), फरीदाबाद (384), और नोएडा (360) दर्ज किया गया है.

वायु गुणवत्ता सूचकांक का स्तर (AQI Measurment)

0-50 AQI- अच्छा
51-100 AQI- संतोषजनक
101-200 AQI- मध्यम
201-300 AQI- खराब
301-400 AQI- बहुत खऱाब
401- 500 AQI- गंभीर