Delhi Me School Kab Khulenge: दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) ने बुधवार को स्कूलों को फिर से खोले जाने की वकालत की. उन्होंने कहा कि अगर अभी स्कूल नहीं खोले गए तो बच्चों की एक पीढ़ी पीछे छूट जाएगी. सिसोदिया ने यह टिप्पणी महामारी विज्ञानी और लोक नीति विशेषज्ञ चंद्रकांत लहरिया के नेतृत्व में अभिभावकों के प्रतिनिधिमंडल के साथ बैठक के बाद की. दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (DDMA) ने कोविड-19 की स्थिति में सुधार के मद्देनजर राष्ट्रीय राजधानी में प्रतिबंधों में ढील देने पर विचार-विमर्श के लिए कल बैठक बुलाई है. बैठक के एजेंडे में स्कूलों को फिर से खोलने का मुद्दा भी शामिल है.Also Read - Delhi School Fees: दिल्‍ली के निजी स्‍कूल में पढ़ रहे स्‍टूडेंट्स के लिए बड़ी खबर, AAP सरकार ने इन छात्रों की ट्यूशन फीस लौटाने को कहा

सिसोदिया ने ट्वीट कर कहा, ‘डॉ लहरिया व यामिनी अय्यर के नेतृत्व में दिल्ली के बच्चों के अभिभावकों के एक प्रतिनिधिमंडल ने स्कूलों को फिर से खोलने के लिए 1600 से अधिक अभिभावकों के हस्ताक्षरों वाला एक ज्ञापन मुझे सौंपा. हम इस बारे में निर्णय लेने वाले प्रमुख देशों में आखिरी क्यों हैं?’ सिसोदिया दिल्ली के शिक्षा मंत्री भी हैं. Also Read - किसी खास दुकान से किताबें-यूनिफॉर्म खरीदने को बाध्य नहीं कर सकेंगे दिल्ली के प्राइवेट स्कूल, सिसोदिया का ऐलान

Also Read - क्या दिल्ली में भी समय से पहले होगा समर वेकेशन? भीषण गर्मी के बीच अभिभावकों ने दिल्ली सरकार से की यह अपील

उन्होंने कहा, ‘मैं उनकी मांगों से सहमत हूं. हमने स्कूल उस समय बंद कर दिया था जब यह बच्चों के लिए सुरक्षित नहीं था लेकिन अत्यधिक सावधानी अब हमारे बच्चों को नुकसान पहुंचा रही है. अगर हम अपने स्कूल अभी नहीं खोलते हैं तो बच्चों की एक पीढ़ी पीछे छूट जाएगी.’ दिल्ली में कुछ समय के लिए स्कूल फिर से खोले गए थे लेकिन पिछले साल 28 दिसंबर को कोविड-19 की तीसरी लहर के कारएा उन्हें फिर से बंद कर दिया गया था.

उधर, सिसोदिया ने कहा कि दिल्ली सरकार गुरुवार को होने वाली DDMA की बैठक में राष्ट्रीय राजधानी के स्कूलों को फिर से खोलने की सिफारिश करेगी, क्योंकि बच्चों के सामाजिक और भावनात्मक कल्याण को और अधिक नुकसान से बचाने के लिए यह जरूरी हो गया है. सिसोदिया ने जोर दिया कि ऑनलाइन शिक्षा कभी भी ऑफलाइन शिक्षा की जगह नहीं ले सकती. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सरकार ने स्कूलों को उस समय बंद कर दिया था जब यह बच्चों के लिए सुरक्षित नहीं था, लेकिन अब अत्यधिक सावधानी छात्रों को नुकसान पहुंचा रही है.

दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (DDMA) ने कोविड-19 की स्थिति में सुधार के मद्देनजर राष्ट्रीय राजधानी में प्रतिबंधों में ढील देने पर विचार-विमर्श के लिए कल बैठक बुलाई है. बैठक के एजेंडे में स्कूलों को फिर से खोलने का मुद्दा भी शामिल है.

(इनपुट: भाषा)