DU Open Book Exam 2020: स्नातक और स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों के लिए अंतिम वर्ष की 10 जुलाई से निर्धारित ओपन बुक परीक्षाओं को टालने संबंधी दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) के फैसले की निंदा करते हुए विश्वविद्यालय के प्रोफेसरों ने परीक्षा को रद्द करने की मांग की. डीयू ने बुधवार को एक अधिसूचना जारी करते हुए कहा कि 10 जुलाई से निर्धारित ऑनलाइन ओपन बुक परीक्षाओं (ओबीई) को स्थगित किया जाता है. यह दूसरा मौका है जब परीक्षाओं को टाला गया है. Also Read - DU CBCS Semester Result 2020 Declared: DU ने जारी किया मई-जून सत्र का 2nd, 4th सेमेस्टर का रिजल्ट, ये रहा चेक करने का Direct Link 

पिछले महीने विश्वविद्यालय ने परीक्षाओं को टाल दिया था और यह एक जुलाई से शुरू होनी थी जिसे 10 जुलाई से कर दिया गया था. एक फेसबुक पोस्ट में, दिल्ली विश्वविद्यालय शिक्षक संघ के अध्यक्ष राजीब रे ने कहा, ‘‘डीयू में ओबीई का बार-बार स्थगित होना इसकी अस्थिरता साबित करता है. छात्रों की चिंता और तनाव को न बढ़ाएं. ओबीई रद्द करें और हमारी मांग बनी हुई है – यह भेदभावपूर्ण है, अनुचित प्रथाओं को बढ़ावा देता है और ईमानदार छात्रों को दंड़ित करता है.’’ Also Read - DU Academic Session 2020-21: डीयू इस दिन से शुरू कर रहा है अकादमिक सत्र, ऑनलाइन चलेगी कक्षाएं 

छात्र और शिक्षक ऑनलाइन ओपन बुक परीक्षा (ओबीई) आयोजित करने संबंधी निर्णय का विरोध कर रहे हैं. इंडियन नेशनल टीचर्स कांग्रेस के संयोजक पंकज गर्ग ने कहा कि 15 अगस्त तक अंतिम वर्ष की परीक्षा स्थगित करने का दिल्ली विश्वविद्यालय का निर्णय सही दिशा में उठाया गया कदम नहीं है. उन्होंने कहा, ‘‘यह छात्रों की समस्याओं को और बढ़ाने वाला है. यह कोई प्रयोग करने का समय नहीं है और दिल्ली विश्वविद्यालय लाखों छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रहा है.’’ Also Read - DU Open Book Exam: दिल्ली हाई कोर्ट ने डीयू को दिए निर्देश, कहा- परीक्षा के संबंध में CSE की तैयारियों से कराएं अवगत

उन्होंने कहा, ‘‘इसका एकमात्र समाधान परीक्षा को रद्द करना और पिछले प्रदर्शन और वर्तमान सत्र के आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर छात्रों के परिणाम घोषित करना है. जिस तरह से कोविड-19 मामले रोज बढ़ रहे हैं, 15 अगस्त तक स्थिति में कोई सुधार नहीं होगा.’’ एक और डीयू शिक्षक निकाय ‘एकेडेमिक्स फॉर एक्शन एंड डेवलंमेंट’ ने भी इसी तरह के विचार व्यक्त किये.