Full Details about CBSE exams 2021: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने कहा है कि बोर्ड द्वारा 2021 की कक्षा 12 की बोर्ड परीक्षाओं में एप्लीकेशन-बेस्ड प्रश्न पूछे जाएंगे. सीबीएसई के निदेशक, जोसेफ इमैनुएल ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि “परीक्षा में अधिक केस-स्टडी बेस्ड प्रश्न होंगे, जिसमें छात्रों को एक पैराग्राफ दिया जाएगा और उन्हें पैराग्राफ पढ़ने के बाद प्रश्नों का उत्तर देना होगा. यह छात्रों को उनके पढ़ने, समझने, व्याख्या करने और उत्तर लिखने की क्षमताओं का आकलन करने में मदद करेगा.”Also Read - Delhi: दिल्‍ली का पारा पहुंचा 49 डिग्री के पार, CBSE Board Exams 2022 दे रहे छात्रों को डॉक्‍टर ने दी ये खास सलाह

बता दें कि देशभर में सीबीएसई छात्रों को 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं देनी होंगी. हालांकि यह परीक्षाएं कब शुरू होंगी, अभी इसकी औपचारिक घोषणा नहीं की गई है. सीबीएसई का कहना है कि बोर्ड परीक्षाएं लेने की तैयारी की जा रही है. यदि सब ठीक ठाक रहा तो तय समय पर ये परीक्षाएं आयोजित की जा सकती हैं. Also Read - CBSE Fake Notice: सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा सीबीएसई का फेक नोटिस, बोर्ड ने कहा - रहें सचेत

बता दें कि पहले, इस तरह के प्रश्न एक अंक के होते थे, लेकिन यह संभावना है कि 2021 से ये प्रश्न छोटे या लंबे प्रश्नों में बदल जाएंगे. ज्ञात हो कि सीबीएसई ने हाल ही में 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं के लिए सैंपल पेपर जारी किए हैं. इमैनुएल ने कहा, “यह एनईपी (New Education policy 2020) के दृष्टिकोण की दिशा में एक छोटा कदम है. असली बदलाव तब आएगा जब शिक्षक कौशल-उन्मुख शिक्षा के आधार पर पढ़ाना शुरू करेंगे ना कि अंक या परीक्षा आधारित.” Also Read - CBSE Board Exams 2022: क्‍या ईद के दिन सीबीएसई बोर्ड कक्षा 10वीं और 12वीं के छात्रों को देना होगा एग्जाम? जानें यहां

सीबीएसई बोर्ड परीक्षाओं को “योग्यता-आधारित” बनाने के लिए इस बदलाव को शुरू करने की योजना बना रहा है. ये प्रश्न वास्तविक जीवन में अवधारणाओं को समझने और लागू करने की क्षमता पर छात्रों का आकलन करने में मदद करेंगे. इससे पहले सीबीएसई द्वारा जारी 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं के लिए सैंपल पेपर में Multiple Choice Questions (MCQs) की हिस्सेदारी बढ़ा दिख रही है. इन सैंपल पेपर्स में MCQs की हिस्सेदारी रीब 10 फीसदी बढ़ा दी गई है.