नई दिल्ली: इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट (IIM) 7 नये कैंपस को शुरू करने के प्रस्ताव पर सरकार ने बुधवार को मुहर लगा दी है. नये IIM को बनाने में 3,775 करोड़ की लागत आएगी, जिसे साल 2021 तक बनाया जा सकेगा. इन IIMs को 2015-16 और 2016-17 में स्थापित किया गया था, लेकिन पर्मानेंट कैंपस ना होने के कारण इन्हें ट्रांजिट कैंपस में चलाया जा रहा था. Also Read - पीएम मोदी आज जम्मू कश्मीर में करेंगे इन योजनाओं का उद्घाटन, देखने जाएंगे डल झील

Vizag Steel Recruitment 2018: RINL ने 664 पदों पर आवेदन आमंत्रित किए Also Read - Top 10 Management Colleges In India 2017 | IIM बेंगलुरू को पछाड़ कर IIM अहमदाबाद टॉप 10 मैनेजमेंट कॉलेज के पहले पायदान पर, पूरी लिस्ट यहां देखें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली कैबिनेट ने 7 इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट (IIMs) के लिए पर्मानेंट कैंपस बनाने के प्रोपाजल पर अपनी मुहर लगा दी है. ये 7 इंस्टीट्यूट अमृतसर, बोधगया, नागपुर, संबलपुर, सिरमौर, विशाखापटनम और जम्मू में बनाए जाएंगे.

SBI Clerk Mains Result 2018: sbi.co.in/careers पर आज जारी हो सकते हैं नजीते, बने रहें यहां

इन 7 संस्थानों को बनाने में करी 3,775.42 करोड़ की लागत आएगी, जिसमें से 2,804.09 करोड़ निर्माण में लगाया जाएगा. बनने वाले इन 7 नये IIMs का क्षेत्रफल 60,384 sqm होगा. इसे 600 छात्रों के लिए तैयार किया जाएगा. हर इंस्टीट्यूट को आवर्ति अनुदान के रूप में प्रति छात्र हर साल 5 लाख रुपये 5 वर्षों तक दी जाएगी. ताकि इनका रनिंग कॉस्ट और मेंटेनेंस कॉस्ट निकाला जा सके.

JEE Main 2019 पर्सेंटाइल स्कोर पर आधारित होगी मेरिट लिस्ट

पर्मानेंट कैंपस का निर्माण जून 2021 तक पूरा कर लिया जाएगा. इनके अलावा सभी 20 IIMs के पास अपना कैंपस है.

एजुकेशन और करियर की अन्य खबरों को पढ़ने के लिए करियर न्यूज पर क्लिक करें.