अहमदाबाद: गुजरात में निजी स्कूलों ने अभिभावकों के अनुरोध पर सोमवार से ऑनलाइन कक्षाएं बहाल करने का फैसला किया है लेकिन वे राज्य सरकार के उस आदेश का विरोध करते रहेंगे जिसमें उन्हें छात्रों से तब तक फीस नहीं लेने का निर्देश दिया गया है जब तब स्कूल बंद रहते हैं। स्कूल संघ के एक प्रवक्ता ने यह जानकारी दी. Also Read - कोविड-19 से ठीक होने के बाद तिहाड़ जेल भेजा गया गैंगस्टर Chhota Rajan

गुजरात सरकार ने एक अधिसूचना जारी कर स्व वित्त पोषित स्कूलों से तब तक छात्रों से ट्यूशन फीस न लेने के लिए कहा है जब तक कोविड-19 वैश्विक महामारी के कारण वे बंद रहते हैं। इस अधिसूचना के बाद 15,000 से अधिक निजी संस्थानों ने बृहस्पतिवार से ऑनलाइन कक्षाएं निलंबित कर दी थीं. 16 जुलाई को जारी इस अधिसूचना में इन स्कूलों से अकादमिक सत्र 2020-21 के लिए फीस न बढ़ाए जाने के लिए भी कहा गया. Also Read - कोविड मरीजों को दिया जा रहा निशुल्क 'कोरोना किट', पाने का है यह आसान तरीका; सिर्फ इस नंबर पर करें कॉल और...

स्व वित्त पोषित स्कूल फेडरेशन के प्रवक्ता दीपक राजगुरु ने कहा कि विभिन्न निजी स्कूलों के प्रबंधकों ने शनिवार शाम बैठक की और अभिभावकों के अनुरोध पर विचार करने के बाद सेामवार से ऑनलाइन कक्षाएं बहाल करने का फैसला किया. Also Read - देश के लिए अच्छी खबर, 19 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में कम हो रहे कोरोना केस

उन्होंने कहा कि स्कूल राज्य सरकार की इस अधिसूचना को वापस लेने की मांग करते रहेंगे। कुछ निजी स्कूलों ने इस अधिसूचना को चुनौती देते हुए गुजरात उच्च न्यायालय का रुख भी किया है.