ICAI Result 2018: इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड एकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया ICAI ने बुधवार को अपनी ऑफिशियल वेबसाइट icaiexam.icai.org, caresults.icai.org और icai.nic.in पर चार्टर्ड एकाउंटेंट्स फाइनल एग्जाम (पुराना कोर्स और नया कोर्स), फाउंडेशन परीक्षा और कॉमन प्रोफिशिएंंसी टेस्ट (CPT) के नतीजे जारी कर दिए हैं.

कोटा, राजस्थान के रहने वाले शादाब हुसैन ने पहले अटेम्प में ही CA फाइनल (पुराना कोर्स) परीक्षा में टॉप किया है. हुसैन ने कुल 800 अंकों में 597 हासिल किए हैं. 74.63 प्रतिशत के साथ शादाब ने परीक्षा में टॉप रैंक हासिल किया है.

हुसैन ने कोटा यूनिवर्सिटी से B.Com किया है. उनके पिता दर्जी हैं और उन्होंने 10वीं तक पढ़ाई की है. हुसैन की मां हाउसमेकर हैं. हुसैन चार बहनों के इकलौते भाई हैं. गरीब और कम पढ़े-लिखे होने के बावजूद हुसैन के माता-पिता ने अपने बेटे की पढ़ाई में कभी कोई कमी नहीं छोड़ी.

ICAI Result 2018: CA फाइनल, फाउंडेशन और CPT के नतीजे जारी, ऐसे चेक करें

हुसैन ने बताया कि मैंने दिन-रात मेहनत कर पढ़ाई की है, ताकि मैं अच्छी नौकरी हासिल कर सकूं और मेरे माता-पिता को बुढ़ापे की चिंता ना हो. मुझे लगा कि चार्टर्ड एकाउंटेंसी(CA) एक अच्छा पेशा है, जहां वह जीवनभर कमा सकता है. बहुत सोचने समझने के बाद मैंने तय किया कि मुझे CA बनना है.

23 साल के हुसैन दिन में करीब 13 से 14 घंटे पढ़ाई करते हैं. हुसैन कहते हैं कि यह मेरे परिवार में यह सबसे बड़ी उपलब्धी है. मैं यह उम्मीद कर रहा था कि मुझे अच्छा रैंक मिलेेगा, क्योंकि मैंने इंटीग्रेटेड प्रोफेशनल कॉम्पीटेंस कोर्स (IPCC) परीक्षा में टॉप किया है.

सफलता का मूल मंत्र

हुसैन कहते हैं कि पढ़ाई करते हुए अपने आप को शांत रखने के साथ-साथ यह भी जरूरी है कि आप क्या पढ़ाई कर रहे हैं. सेल्फ स्टडी के दौरान मैं हर तीन घंटे पर 30 से 40 मिनट का ब्रेक लेता था. यह भी सुनिश्चित करता था कि हर दिन मैं कम से कम दो से तीन किलोमीटर तो जरूर चलूं. इससे तनाव कम होता है.

जैसे-जैसे परीक्षा नजदीक आता गया, मैंने पढ़ाई के घंटे कम कर दिए, ताकि अपने दिमाग को अलर्ट रख सकूं.

परीक्षा की रणनीति:

अपनी परीक्षा की रणनीति के बारे में बात करते हुए हसैन ने कहा कि मैं पहले प्रश्न पत्र को पढ़ लेता हूं और उसमें से तीन से चार सवाल ऐसे हल करता हूं, जिससे कि मैं अपने 40 अंक सुरक्षित कर सकूं. मेरी कोशिश होती है कि पहले एक घंटे के भीतर मैं ये कर लूं. उसके बाद बचे हुए दो घंटों में बचे हुए सवाल करता हूं, जिससे कि मुझे ज्यादा स्कोर करने में मदद मिलती है.

परीक्षा में बैठने जा रहे अभ्यर्थियों को सलाह:

हुसैन कहा कि सीए या किसी भी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करने वाले उम्मीदवारों को मैं यही सलाह दूंगा कि वह अपने लिए कम से कम आधे से एक घंटे का समय जरूर निकालें. अपने समय को बांटें और उसके अनुसार अपनी रूटीन बनाएं. आपको अच्छा महसूस भी होगा और जल्दी रिवीजन कर पाएंगे.

करियर संबंधी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com