सिंगापुर: सिंगापुर के एक 12 वर्षीय भारतीय मूल के छात्र ने हांगकांग में आयोजित विश्व मेमोरी चैंपियनशिप में दो स्वर्ण पदक हासिल किए हैं. जी हां, इस 12 वर्षीय छात्र का नाम ध्रुव मनोज है और चैंपियनशिप में उन्होंने “names and faces” और “random words” में जीत हासिल की है. ध्रुव ने 260 छात्रों को पछाड़कर यह मेडल हासिल किया है. हांगकांग में यह प्रतियोगिता 20 से 22 दिसंबर तक आयोजित की गई थी, जिसमें भारत, चीन, रूस, ताइवान और मलेशिया के छात्रों ने हिस्सा लिया था. Also Read - जयशंकर की चीन को दो टूक, 'एलएसी पर यथास्थिति में परिवर्तन का कोई भी एकतरफा प्रयास स्वीकार नहीं'

Also Read - कनाडा 401,000 नए प्रवासियों को स्वीकार करेगा, भारतीय होंगे सबसे बड़े लाभार्थी

ध्रुव ने हाल ही में अपना प्राइमरी स्कूल पास किया है. ध्रुव चीजों को याद रखने के लिए किसी दूसरे वस्तु या जगह से उसे जोड़कर देखते हैं. इस रोमन मेमोरी टेक्निक कहा जाता है. हांगकांग प्रतियोगिता की तैयारी ध्रुव के लिए आसान नहीं थी. अक्टूबर में ध्रुव ने बाइनरी संख्याओं और कार्ड्स को याद रखने की ट्रेनिंग लेनी शुरू कर दी. शुरुआत में उन्हें इसके लिए 4 से 6 घंटे का समय देना पड़ता था. Also Read - भारत ने Su-30MKI fighter से दागी ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल, जहाज को निशाना बनाया

ध्रुव के अनुसार सबसे मुश्किल तब होता है, जब आप देखते हैं कि आपके दोस्त खेल रहे हैं, वह फ्री हैं और आपको अब भी देर तक बैठना है और प्रैक्टिस करना है. यह मुश्किल था, पर मैंने मैनेज करने की कोशिश की.

ध्रुव के पिता मनोज प्रभाकर ऑयल और गैस इंडस्ट्री में मैनेजमेंट कंसल्टेंट हैं.

करियर संबंधी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com