सिंगापुर: सिंगापुर के एक 12 वर्षीय भारतीय मूल के छात्र ने हांगकांग में आयोजित विश्व मेमोरी चैंपियनशिप में दो स्वर्ण पदक हासिल किए हैं. जी हां, इस 12 वर्षीय छात्र का नाम ध्रुव मनोज है और चैंपियनशिप में उन्होंने “names and faces” और “random words” में जीत हासिल की है. ध्रुव ने 260 छात्रों को पछाड़कर यह मेडल हासिल किया है. हांगकांग में यह प्रतियोगिता 20 से 22 दिसंबर तक आयोजित की गई थी, जिसमें भारत, चीन, रूस, ताइवान और मलेशिया के छात्रों ने हिस्सा लिया था.Also Read - IND vs SA 3rd ODI Live Streaming: मोबाइल पर इस तरह देखें भारत-साउथ अफ्रीका के बीच वनडे मैच

Also Read - IND vs SA, 2nd ODI: बतौर कप्तान KL Rahul के नाम दर्ज हुआ शर्मनाक रिकॉर्ड

ध्रुव ने हाल ही में अपना प्राइमरी स्कूल पास किया है. ध्रुव चीजों को याद रखने के लिए किसी दूसरे वस्तु या जगह से उसे जोड़कर देखते हैं. इस रोमन मेमोरी टेक्निक कहा जाता है. हांगकांग प्रतियोगिता की तैयारी ध्रुव के लिए आसान नहीं थी. अक्टूबर में ध्रुव ने बाइनरी संख्याओं और कार्ड्स को याद रखने की ट्रेनिंग लेनी शुरू कर दी. शुरुआत में उन्हें इसके लिए 4 से 6 घंटे का समय देना पड़ता था. Also Read - SA vs IND, 2nd ODI: वनडे फॉर्मेट में पहली बार स्पिनर के सामने 'शर्मसार' हुए Virat Kohli, नहीं खोल सके खाता

ध्रुव के अनुसार सबसे मुश्किल तब होता है, जब आप देखते हैं कि आपके दोस्त खेल रहे हैं, वह फ्री हैं और आपको अब भी देर तक बैठना है और प्रैक्टिस करना है. यह मुश्किल था, पर मैंने मैनेज करने की कोशिश की.

ध्रुव के पिता मनोज प्रभाकर ऑयल और गैस इंडस्ट्री में मैनेजमेंट कंसल्टेंट हैं.

करियर संबंधी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com