नई दिल्ली: दिल्ली हाईकोर्ट ने मंगलवार को दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) को निर्देश दिया कि वह अंतिम वर्ष के स्नातक छात्रों के परिणाम शीघ्र घोषित करे जिन्होंने उच्च अध्ययन के लिए विदेशी विश्वविद्यालयों में दाखिला लिया है. इसके साथ ही अदालत ने विश्वविद्यालय को एक ई-मेल आईडी बनाने का भी निर्देश दिया ताकि विदेशी विश्वविद्यालयों में अनंतिम प्रवेश हासिल करने वाले छात्र पूरे विवरण के साथ अपना अनुरोध भेज सकें. ऐसे अनुरोध पर विश्वविद्यालय कदम उठा सकेगा. Also Read - दिल्ली सरकार को हाईकोर्ट का झटका, निजी अस्पतालों में कोरोना मरीजों के लिए 80% ICU बेड रिजर्व रखने के आदेश पर रोक

जस्टिस हिमा कोहली और न्यायमूर्ति एस सुब्रमण्यम प्रसाद की पीठ ने कहा कि डीयू विदेशी विश्वविद्यालय को यह आश्वासन भी देगा कि संबंधित छात्रों के परिणामों की जानकारी जल्द से जल्द दी जाएगी. Also Read - Delhi University Semester Fee: कोरोना महामारी के बीच डीयू ने छात्रों से मांगे सेमेस्टर फीस, स्टूडेंट्स कर रहे हैं इसका विरोध  

खंडपीठ का आदेश डीयू के वकील द्वारा यह सूचित किए जाने के बाद आया कि हाईकोर्ट के एकल न्यायाधीश ने विदेशी विश्वविद्यालयों में स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों में प्रवेश लेने वाले छात्रों के परिणामों से संबंधित एक आदेश सात जुलाई को पारित किया था. Also Read - दिल्ली HC ने दिया आदेश-ऑनलाइन क्लासेज के लिए छात्रों को दें मोबाइल-लैपटॉप, इंटरनेट पैक

अपने आदेश में एकल न्यायाधीश ने कहा था, “जहां तक ​​स्नातक पाठ्यक्रमों का संबंध है, विदेशी विश्वविद्यालयों में स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों में प्रवेश प्राप्त करने वाले छात्र डीन (परीक्षा) को ई-मेल लिखकर उन्हें सूचित कर सकते हैं. ऐसे मामले में परीक्षा परिणाम जल्दी देने के लिए प्रयास किए जाएंगे.’’

खंड पीठ ने विश्वविद्यालय को न्यायमूर्ति प्रतिभा एम सिंह के सात जुलाई के आदेश में जारी दिशा-निर्देश का पालन करने का निर्देश दिया.

अदालत का मंगलवार का आदेश सोमवार को जारी आदेश को आगे बढ़ाता है, जिसमें यह निर्देश दिया गया था कि डीयू एक सप्ताह के भीतर नई नई ई-मेल आईडी बनाएगा और इसकी जानकारी विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर दी जाएगी.