नई दिल्ली: सरकार की पॉलिसी और इंफ्रास्ट्रक्चर के क्षेत्र में हो रहे सुधारों के चलते भारत में इंटरनेट सेवा का कारोबार तीन गुना बढ़कर $124 अरब का आंकड़ा छू सकता है. IMAI द्वारा जारी एक रिपोर्ट में ऐसा दावा किया गया है कि सरकारी नीतियों और भारत में इंफ्रास्ट्रक्चर के स्तर पर हो रहे बदलावों के कारण जो इंटरनेट सेवा सेक्टर $33.8 अरब यानी करीब 2.46 लाख करोड़ का है वह साल 2022 तक $76.4 अरब यानी 5.57 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच सकता है.Also Read - Punjab: भारत-पाकिस्तान सीमा के पास हथियारों का बड़ा जखीरा मिला, एक किलो हेरोइन बरामद

Also Read - आर्मी ने LAC के अग्र‍िम मोर्चों पर तैनात की बोफोर्स तोपें, चीन को मुंहतोड़ जवाब देने की तैयारी

हालांकि IMAI की रिपोर्ट में यह भी दावा किया गया है कि इस सेक्टर के सामर्थ्य को देखा जाए तो यह साल 2022 तक $124 अरब डॉलर के आंकड़े को भी छू सकता है. Also Read - Good news: भारत में जल्‍द लौटेगा हाई सैलरी का दौर, 2022 में कर्मचारियों को मिलेगा अच्‍छा इंक्रीमेंट, र‍िपोर्ट

CAT 2018 Admit Card: आज जारी हो सकता है एडमिट कार्ड, iimcat.ac.in पर करें डाउनलोड

इंटरनेट एंड मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया (IMAI) की रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि इंटरनेट सेक्टर का कारोबार बढ़ने के साथ ही इस क्षेत्र में नई नौकरियों का भी सृजन होगा. साल 2022 तक इस सेक्टर में करीब 1.2 करोड़ नेट जॉब सृजित हो सकते हैं. इंटरनेट सेवा क्षेत्र में फिलहाल करीब 10 लाख कर्मचारी काम कर रहे हैं.

IAMAI की रिपोर्ट ‘Economic Impact of Internet Services in India’ के अनुसार साल 2022 तक भारत में की आबादी 1.4 अरब हो जाएगी. इंटरनेट यूजर की संख्या 1.6 गुणा बढ़कर साल 2022 तक 762 मिलियन हो जाएगी. फिलहाल इंटरनेट यूजर की कुल संख्या 481 मिलियन है.

#JNU: यूनिवर्सिटी बना रही है योजना, दिल्ली के बाहर सेटअप होगा सैटेलाइट कैंपस

इंटरनेट कनेक्टिविटी के साथ भारत में स्मार्टफोन यूजर्स की संख्या में भी इजाफा दर्ज किया जाएगा. साल 2022 तक इंटरनेट कनेक्टिविटी के साथ स्मार्टफोन यूजर्स की संख्या बढ़कर 526 मिलियन हो जाएगी.

एजुकेशन और करियर की अन्य खबरों को पढ़ने के लिए करियर न्यूज पर क्लिक करें.