मणिपुर: चुराचांदपुर जिले के कंगवई गांव से एक ऐसी खबर आई है जिसे सुनकर पूरा राज्य उत्साहित है. और साथ ही साथ इस इस खबर से पूरा देश भी खुश है. इसी गांव के 12 वर्षीय आइजक पॉलालुंगमुआन (Issac Paulallungmuan) एचएसएलसी परीक्षा (कक्षा 10 राज्य बोर्ड परीक्षा) में बैठने वाले राज्य के सबसे युवा व्यक्ति बन गए हैं.

सामान्य तौर पर 10वीं की परीक्षा देने लिए कोई भी छात्र 15 वर्ष की उम्र में योग्य होता है. लेकिन इससे पहले भी ऐसे कई मामले हुए हैं जहां 15 वर्ष से कम आयु वाले भी 10वीं की परीक्षा में बैठे हैं. डिपार्टमेंट ऑफ क्लीनिकल साइकोलॉजी, रिम्स इम्फाल (Dept of Clinical Psychology,RIMS Imphal) द्वारा किए गए परीक्षणों के अनुसार, आइजक पॉलालुंगमुआन का आईक्यू 141 पर है और वो पूरी तरीके से तैयार है.

बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन, मणिपुर (Board of Secondary Education, Manipur) ने इस्साक पॉलालुंगमुआन को “विशेष मामला” होने का हवाला देते हुए 10वीं की  राज्य बोर्ड परीक्षा में बैठने की अनुमति दे दी है. इस्साक कहते हैं, “मैं खुश और उत्साहित हूं. मैं सर आइजक न्यूटन की प्रशंसा करता हूं क्योंकि मुझे लगता है कि मैं उनके जैसा हूं और हम एक सामान्य नाम भी साझा करते हैं.”

इनपुट- एएनआई