JEE Advanced 2020: 26 सितंबर को देश भर के अनेकों परीक्षा केंद्रों में 27 सितंबर को जेईई एडवांस की परीक्षा आयोजित की गई. इस परीक्षा में लगभग 96 प्रतिशथ छात्रों ने भाग लिया. अब इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी दिल्ली ने 27 सितंबर को हई परीक्षा के प्रश्न पत्र को वेबसाइट पर अपलोड कर दिया है. जो लोग प्रश्नपत्र को डाउनलोड करना चाहते हैं वे ऑफिशियल वेबसाइट jeeadv.ac.in पर जाकर इसके डाउनलोड कर सकते हैं.Also Read - JEE Advanced 2021 Exam Postponed: IIT Kharagpur ने पोस्टपोन किया JEE Advanced 2021 का एग्जाम, जानें इससे संबंधित पूरी डिटेल

बता दें कि आईआईटी दिल्ली (IIT DELHI) ने वेबसाइट पर फिजिक्स कमेस्ट्री और मैथ के फर्स्ट और सेकेंड दोनों पेपर अपलोड कर दिए हैं. गौरतलब है कि कोरोना काल के दौरान जेईई मेन और एडवांस, नीट के बाद दूसरी सबसे बड़ी परीक्षाएं रही. Also Read - QS World University Ranking 2021: QS वर्ल्ड रैंकिंग के टॉप 200 में भारत के 7 इंजीनियरिंग संस्थान, IIT Bombay देश के बेस्ट संस्थान में शुमार, देखें पूरी लिस्ट

आईआईटी दिल्ली ने इस बारे में आधिकारिक जानकारी देते हुए कहा, जेईई एडवांस के लिए पंजीकरण और फीस भरने वाले कुल छात्रों में से 96 फीसदी छात्र रविवार को आयोजित की गई परीक्षाओं में शामिल हुए. परीक्षाओं के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखा गया. Also Read - JEE 2021 Exam: IIT Delhi इस साल से JEE से हटा सकता है ये कोर्स, जानें क्या है इसके पीछे की वजह 

आईआईटी दिल्ली ने आधिकारिक वक्तव्य में कहा, यह परीक्षाएं पूरे देश में 222 शहरों में आयोजित की गई और इन परीक्षाओं के लिए एक हजार एक परीक्षा केंद्र बनाए बनाए एक परीक्षा केंद्र बनाए परीक्षा केंद्र हजार एक परीक्षा केंद्र बनाए बनाए गए थे.

इससे पहले 1 से 6 सितंबर तक जेईई मेन परीक्षा आयोजित की गई थी. जेईई मेन के लिए 8.58 लाख छात्रों ने फॉर्म भरा था. इनमें से 82 प्रतिशत से अधिक छात्रों ने जेईई की परीक्षा दी . जो छात्र जेईई मेन की परीक्षाओं में शामिल हुए हैं उन्हें नतीजों के लिए ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़ा. जेईई मेन परीक्षाओं का रिजल्ट 11 सितंबर को घोषित कर दिए गए. रिजल्ट घोषित किए जाने के बाद अब जेईई एडवांस की परीक्षा ली गई है.

दिल्ली सरकार के स्कूलों में पढ़ने वाले 510 बच्चों ने जेईई मेन की परीक्षा पास की है. यह सभी छात्र रविवार को आयोजित एडवांस परीक्षा में भी शामिल हुए. यह संख्या पिछले साल 473 थी और इसके पिछले साल 350 थी.