नई दिल्ली: मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने कोविड-19 महामारी के मद्देनजर एनआईटी में और केंद्र से वित्त प्राप्त अन्य तकनीकी संस्थानों में दाखिले के लिये अर्हता में बृहस्पतिवार को कुछ छूट देने की घोषणा करते हुए कहा कि 12 वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा में न्यूनतम 75 प्रतिशत अंक की जरूरत नहीं होगी. Also Read - New Education Policy 2020: रमेश पोखरियाल NEP पर चर्चा करने के लिए सोमवार को सोशल मीडिया पर होंगे लाइव 

केंद्रीय एचआरडी मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने ट्वीट किया, ‘‘ मौजूदा परिस्थितियों के कारण केंद्रीय सीट आवंटन बोर्ड (सीएसएबी) ने एनआईटी और केंद्र द्वारा वित्त प्रदत्त अन्य तकनीकी संस्थानों में दाखिले के लिये योग्यता के मानदंड में छूट देने का निर्णय किया है.’’ Also Read - New Education Policy 2020: पीएम मोदी ने कहा- 21वीं सदी के नए भारत की बुनियाद बनेगी यह शिक्षा नीति

उन्होंने कहा, ‘जेईई मेन 2020 में उत्तीर्ण हुए उम्मीदवारों को अब सिर्फ 12 वीं की परीक्षा के उत्तीर्णता प्रमाणपत्र की जरूरत होगी और इसमें प्राप्त हुए अंक मायने नहीं रखेंगे. ’’ एनआईटी और केंद्र से वित्त प्रदत्त अन्य तकनीकी संस्थानों में जेईई-मेन उत्तीर्ण करने के अलावा 12 वीं कक्षा की परीक्षा में कम से कम 75 प्रतिशत अंक हासिल करने की भी जरूरत होती है. संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई) -मेन, अब एक से छह सितंबर के बीच आयोजित की जाएगी. यह दो बार स्थगित की जा चुकी है.