JEE Mains 2021: चौथे चरण की जेईई मेंस परीक्षाएं अब 26 अगस्त से 2 सितंबर के बीच आयोजित की जाएंगी. JEE Mains सत्र 4 के लिए पंजीकरण शुरू हो चुका है. केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने चौथे सत्र के लिए पंजीकरण की तारीख को 20 जुलाई तक बढ़ाने का फैसला किया है. केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान की सलाह पर यह निर्णय लिया गया है. केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने गुरुवार को कहा कि छात्र समुदाय की लगातार मांग को देखते हुए और उम्मीदवारों को अपना प्रदर्शन बेहतर करने में सक्षम बनाने के लिए JEE Mains के सत्र 3 और सत्र 4 के बीच चार सप्ताह का अंतराल प्रदान करने की सलाह दी गई है. केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने यह सलाह नेशनल टेस्टिंग एजेंसी के डीजी को दी है.Also Read - JEE Advanced 2021 Entrance Exam Date: जेईई एडवांस्ड परीक्षा के लिए डेट की घोषणा, जानें कब होगा एग्जाम

केंद्रीय शिक्षा मंत्री की सलाह अनुसार, JEE Mains 2021 का चौथा सत्र अब 26, 27 और 31 अगस्त, और 1 और 2 सितंबर को आयोजित किया जाएगा. कुल 7.32 लाख उम्मीदवारों ने पहले ही जेईई (मेंस) 2021 के सत्र 4 के लिए पंजीकरण कराया है. तीसरे चरण की JEE Mains परीक्षाएं 20 जुलाई से 25 जुलाई तक आयोजित की जाएंगी. चौथे चरण की JEE Mains परीक्षाएं 26 से अगस्त से 2 सितंबर तक आयोजित की जाएंगी. Also Read - JEE-Main Update: महाराष्ट्र के वर्षा प्रभावित क्षेत्रों के जेईई-मुख्य परीक्षा के अभ्यर्थियों को एक और मौका मिलेगा

पहले तीसरे चरण की JEE Mains की परीक्षाएं अप्रैल और चौथे चरण की JEE Mains परीक्षाएं मई में आयोजित की जानी थी, लेकिन कोरोना संक्रमण को देखते हुए तब यह परीक्षाएं स्थगित कर दी गई थी. चौथे चरण की परीक्षा के लिए 9 से 12 जुलाई तक आवेदन का समय था, लेकिन अब इसे बढ़ाकर 20 जुलाई कर दिया गया है. जिन छात्रों ने पहले से ही इन परीक्षाओं के लिए आवेदन किया हुआ है उन्हें दोबारा आवेदन करने की आवश्यकता नहीं है. Also Read - JEE Main Admit Card 2021 Released: NTA ने जारी किया JEE Main 2021 अप्रैल सेशन का एडमिट कार्ड, इस Direct Link से करें डाउनलोड

केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय के मुताबिक अगर कोई छात्र परीक्षा केंद्र अपनी सुविधा के अनुसार बदलना चाहेगा तो उसे इसका विकल्प देना होगा. नेशनल टेस्टिंग एजेंसी की कोशिश होगी कि छात्रों की इच्छा के अनुसार यह बदलाव कराया जाए. पिछली बार के मुकाबले इस बार परीक्षा केंद्रों की संख्या भी दोगुनी से अधिक की गई है ताकि सामाजिक दूरी का पालन किया जा सके.

इस बार प्रधानमंत्री मोदी की पहल पर कई क्षेत्रीय भाषाओं में भी JEE की परीक्षाएं करवाई जाएंगी. इसके अंतर्गत छात्रों को अपनी मातृभाषा में परीक्षा देकर इंजीनियरिंग बनने का अवसर मिलेगा. इस बार 13 कुल विभिन्न भाषाओं में जेईई परीक्षाएं आयोजित की जाएंगी.

(इनपुट: IANS)