भोपाल: कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर मध्यप्रदेश बोर्ड की शैक्षणिक वर्ष 2019-2020 की 10वीं एवं 12वीं कक्षा की परीक्षा को छोड़कर शेष कक्षाओं के छात्रों को बिना परीक्षा दिए अगली कक्षा में भेज दिया जाएगा. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रालय में प्रदेश में कोरोना की स्थिति तथा इसके मद्देनजर की जा रही व्यवस्थाओं की शनिवार देर रात को समीक्षा करते हुए अधिकारियों को यह निर्देश दिए हैं. Also Read - शिवराज सिंह चौहान का बयान- आज गर्वनर लेंगी शपथ, कल कैबिनेट का होगा विस्तार

मध्यप्रदेश जनसंपर्क विभाग के एक अधिकारी ने रविवार को बताया, ‘मध्यप्रदेश बोर्ड की 10वीं एवं 12वीं कक्षा की परीक्षा आगे बढ़ाई जाएंगी जबकि शेष कक्षाओं में जनरल प्रमोशन दिया जाएगा.’ उन्होंने कहा कि इसके अलावा, सरकार ने संपत्ति कर, वृत्ति कर, किसान क्रेडिट कार्ड भुगतान तथा स्कूल कॉलेजों की फीस भरने की तिथि भी 30 अप्रैल तक बढ़ाई है. कलेक्टर दिशानिर्देश की तारीख 30 मार्च के बजाय 30 अप्रैल की गई है. Also Read - MP Board Exam 2020: मध्यप्रदेश बोर्ड के 10वीं की परीक्षा हुई कैंसिल, बिना एग्जाम होंगे पास, जानिए यहां पूरी डिटेल

बता दें कि इससे पहले मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने सीबीएसई और देश के सभी शैक्षणिक संस्थानों को निर्देश दिया था कि कोरोना वायरस के प्रकोप के मद्देनजर सभी परीक्षाएं 31 मार्च तक स्थगित कर दी जाएं. मानव संसाधन विकास मंत्रालय में सचिव अमित खरे ने एक आधिकारिक संदेश में कहा था कि शैक्षिक सत्र और परीक्षा कार्यक्रम बनाए रखना जरूरी है, लेकिन साथ ही विभिन्न परीक्षाओं में बैठने वाले छात्रों के साथ ही शिक्षकों एवं अभिभावकों की सुरक्षा भी उतनी ही महत्वपूर्ण है. Also Read - कपिल सिब्बल ने दिया सुझाव, कहा- आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर सभी छात्रों को करना चाहिए प्रमोट