रायपुर: मध्यप्रदेश के मेडिकल कॉलेजों में पढ़ने वाले छात्र अब परीक्षा में हिन्दी और अंग्रेजी के अलावा हिंगलिश भाषा में प्रश्नों के उत्तर लिख सकते हैं. मध्यप्रदेश मेडिकल साइंस यूनिवर्सिटी (MPMSU) ने हाल ही में यह फैसला लिया है. नये नियमों के तहत छात्र अब लिखित और ओरल परीक्षा में ‘हिंगलिश’ (Hinglish) भाषा का इस्तेमाल कर सकते हैं. यानी हिन्दी और अंग्रेजी भाषा का मिक्चर.

मध्यप्रदेश मेडिकल साइंस यूनिवर्सिटी (MPMSU) द्वारा 26 मई को जारी एक सर्कुलर में यह सूचना दी गई है कि छात्रों के पास अब हिन्दी और अंग्रेजी के अलावा हिंगलिश में सवालों के जवाब देने का भी विकल्प होगा. यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर आर एस शर्मा ने बताया कि इस कदम का छात्रों ने स्वागत किया है. इससे उन मेडिकल छात्रों को ज्यादा मदद मिलेगी, जो ग्रामीण इलाकों में रहते हैं और जवाब पता होते हुए भी अंग्रेजी में उत्तर नहीं लिख पाते. उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि छात्र परीक्षा में ‘हार्ट अटैक’ के स्थान पर ‘हार्ट का दौरा’ शब्द का इस्तेमाल कर सकते हैं.

उन्होंने कहा कि ऐसे छात्र ओरल परीक्षा में भी खुद को एक्सप्रेस नहीं कर पाते. इसके कारण परीक्षा लेने वाले शिक्षक परेशान होते हैं. इसलिए ओरल परीक्षा में भी हिंगलिश का विकल्प रखा गया है.

मध्यप्रदेश मेडिकल साइंस यूनिवर्सिटी के तहत 312 कॉलेज आते हैं. इसमें MBBS, आयुर्वेदिक मेडिसिन और नर्सिंग संबंधित कोर्स कराने वाले कॉलेज भी शामिल हैं. साल में दो बार जुलाई और जनवरी में यहां परीक्षाएं आयोजित होती हैं.