नई दिल्ली: देशभर में कोरोना महामारी के चलते लॉकडाउन लागू है. सभी स्कूल बंद होने की वजह से छात्र घर पर ही रहने को मजबूर हैं. ऐसे में बच्चों को पढ़ाई में नुकसान न हो इसके लिए नेशनल काउंसिल ऑफ एजुकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग (NCERT) ने छात्रों के लिए एक अल्टरनेटिव एकेडमिक कैलेंडर जारी किया है. इस एकेडमिक कैलेंडर में पहली कक्षा से लेकर 5वीं कक्षा के छात्रों के लिए अंग्रेजी, हिंदी, उर्दू, मैथ्स और एनवायरमेंटल स्टडी के विषयों को कवर किया गया है. इसके अलावा इसमें आर्ट, हेल्थ और फिजिकल एजुकेशन को भी शामिल किया गया है. Also Read - CBSE, CISCE Reduce Syllabus 2020-21: CBSE, CISCE 30% के बजाय 50% तक कम कर सकता है सिलेबस, जानें पूरी डिटेल

कैलेंडर विभिन्न तकनीकी उपकरणों और सोशल मीडिया टूल का उपयोग करने के लिए शिक्षकों को दिशा-निर्देश दिया गया है. इस कैलेंडर में मज़ेदार, दिलचस्प तरीकों से शिक्षा के लिए पाठ्यसामाग्री उपलब्ध हैं, जिनका उपयोग छात्र घर बैठे भी कर सकते हैं. हालांकि, इस तरह के उपकरण-मोबाइल, रेडियो, टेलीविजन, एसएमएस और विभिन्न सोशल मीडिया तक पहुंच के विभिन्न स्तरों को भी ध्यान में रखा गया है. हममें से बहुत से ऐसे लोग हैं जिनके पास मोबाइल में इंटरनेट की सुविधा नहीं है, या अलग-अलग सोशल मीडिया टूल्स- जैसे व्हाट्सएप, फेसबुक, ट्विटर और गूगल का उपयोग नहीं कर सकते हैं. ऐसे में शिक्षकों को एसएमएस के माध्यम से छात्रों को पढ़ाने की सुविधा दी गई है. Also Read - UP Board Syllabus: यूपी बोर्ड ने सिलेबस को लेकर उठाया ये बड़ा कदम, कॉमर्स स्ट्रीम में शामिल किया NCERT पाठ्यक्रम 

इस कैलेंडर में सिलेबस या पाठ्यपुस्तक से लिए गए विषय या अध्याय के संदर्भ में सप्ताह के हिसाब से रोचक और चुनौतीपूर्ण गतिविधियाँ शामिल किए गए हैं. सबसे महत्वपूर्ण बात, यह सीखने के परिणामों के साथ विषयों को मैप करता है. सीखने के परिणामों के साथ विषयों की मैपिंग का उद्देश्य शिक्षकों और अभिभावकों को बच्चों की शिक्षा में प्रगति का आकलन करने और पाठ्यपुस्तकों से परे जाने की सुविधा प्रदान करना है. Also Read - New Academic Calendar: NCERT ने जारी किया नया एकेडमिक कैलेंडर, इंटरनेट, सोशल मीडिया के बिना भी बताएगा पढ़ने के तरीके