Online Chat: कोरोना संक्रमण के कारण कई छात्रों को मानसिक तनाव से गुजरना पड़ रहा है. छात्रों के इस मानसिक तनाव का मुद्दा शनिवार को लोकसभा (Loksabha) में भी उठाया गया. शिक्षा मंत्रालय (Ministry of Education) ने बताया कि मानसिक स्वास्थ्य बेहतर रखने के लिए छात्रों को ऑनलाइन चैट (Online Chat) के माध्यम से भी सहायता उपलब्ध कराई जा रही है. शनिवार को लोकसभा (Loksabha) में इस विषय पर केंद्रीय शिक्षा मंत्री (Union Education Minister) से प्रश्न पूछा गया. जिसके जवाब में शिक्षा मंत्रालय (Ministry of Education) की ओर से कहा गया कि छात्रों के साथ-साथ उनके अभिभावकों के मानसिक स्वास्थ्य के संबंध में सहायता उपलब्ध कराई गई है. Also Read - CBSE, ICSE Board Exam 2021: परीक्षा 45 से 60 दिनों तक पोस्टपोन होने की है संभावना, जानिए क्या कहती है रिपोर्ट 

शनिवार को लोकसभा सांसद वांगा गीता विश्वनाथ और कोथा प्रभाकर रेड्डी ने केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक (Ramesh Pokhriyal) से छात्रों एवं उनके अभिभावकों के मानसिक स्वास्थ्य एवं तनाव के विषय में प्रश्न पूछा. इस प्रश्न का उत्तर देते हुए निशंक ने कहा, “शिक्षा मंत्रालय (Ministry of Education) ने मनोदर्पण नामक एक पहल की है. इसमें कोविड महामारी के दौरान और उसके बाद छात्रों, शिक्षकों और उनके परिवारों के मानसिक स्वास्थ्य और भावनात्मक कल्याण हेतु मनोवैज्ञानिक सहायता प्रदान की जा रही है. इसमें विस्तृत गतिविधियों को कवर किया गया है. छात्रों के मानसिक स्वास्थ्य से संबंधित मुद्दों और सरोकारों पर ध्यान देने के लिए उन्हें प्रोत्साहित करने का प्रयास कर रही है.” Also Read - JEE Main in Regional Language: रमेश पोखरियाल ने कहा- जेईई मेन की परीक्षा अब क्षेत्रीय भाषाओं में होगी आयोजित

निशंक (Ramesh Pokhriyal) ने कहा, “कोविड-19 लॉकडाउन के दौरान और उसके बाद मानसिक स्वास्थ्य और सामाजिक मनोसामाजिक समस्याओं के समाधान हेतु काउंसलिंग सेवा है. ऑनलाइन संसाधनों और हेल्पलाइन के माध्यम से सहायता प्रदान करने के लिए एक कार्यकारी समूह का गठन किया गया है. इसके सदस्यों के रूप में शिक्षा, मानसिक स्वास्थ्य और मनोसामाजिक मुद्दों के विशेषज्ञ हैं.” शिक्षा मंत्री ने अधिक जानकारी देते हुए कहा, “शिक्षा मंत्रालय के वेब वेबसाइट पर छात्रों शिक्षकों और स्कूल प्रणालियों तथा विश्वविद्यालयों के लिए एडवाइजरी और व्यावहारिक सुझाव हैं. इसमें पोस्टर, वीडियो, मनोसामाजिक सहायता के लिए क्या करें और क्या न करें एवं अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न और ऑनलाइन प्रश्न प्रणाली दी गई है.” Also Read - Delhi University Act: केजरीवाल ने कॉलेज में एडमिशन को लेकर जताई चिंता, कहा- कॉलेज, यूनिवर्सिटी खोलना चाहते हैं लेकिन DU Act है अड़चन   

छात्रों को मानसिक तनाव से उबारने के लिए शिक्षा मंत्रालय ने कोविड-19 के दौरान और उसके बाद छात्रों, शिक्षकों और उनके परिवारों के लिए मनोवैज्ञानिक एवं अन्य मानसिक स्वास्थ्य पेशेवरों द्वारा संपर्क परामर्श एवं मार्गदर्शन के लिए इंटरएक्टिव ऑनलाइन चैट (Online Chat) प्लेटफॉर्म शुरू किए हैं.