Punjab University Exam Guidelines: पंजाब विश्वविद्यालय के ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट ऑनलाइन परीक्षा में दोबारा शामिल हो रहे छात्र अपना एडमिट कार्ड विश्वविद्यालय की आधिकारिक वेबसाइट से डाउनलोड कर सकते हैं. पीयू प्राधिकरण द्वारा जारी अनुदेश / मॉडल के अनुसार जो छात्र प्रोफेशनल कोर्सेज और अन्य पाठ्यक्रमों के लिए इंटरमीडिएट सेमेस्टर की परीक्षा में शामिल हुए, लेकिन वे इस परीक्षा में असफल रहे. वे अब पुन: इन परीक्षों में शमिल हो सकते हैं. परीक्षाएं ऑनलाइन मोड में 15 जनवरी से आयोजित की जाएंगी.Also Read - Final Year Exam: कोरोना महामारी के बीच पंजाब यूनिवर्सिटी इस दिन से आयोजित करेगी परीक्षा, जानें पूरी डिटेल 

यूनिवर्सिटी ने पुन: परीक्षा की डेटशीट भी जारी कर दिए हैं. परीक्षा दो स्लॉट में आयोजित की जाएगी. प्रश्न पत्र इन आधिकारिक वेबसाइटों www.ugexam.puchd.ac.in और www.pgexam.puchd.ac.in पर उपलब्ध होंगे, और छात्र बिना लॉग-इन किए उपरोक्त वेबसाइट के होमपेज से सीधे प्रश्न पत्र डाउनलोड कर सकते हैं. प्रश्नपत्र पर परीक्षा की अवधि का उल्लेख भी किया जाएगा. Also Read - olympian shooter abhinav bindra became a professor in punjab University | पंजाब विश्वविद्यालय में प्रोफेसर बने अभिनव बिंद्रा

Punjab University के लिए उत्तर पुस्तिकाएं लिखना

ग्रेजुएट छात्र 36 A4 साइज की शीट का उपयोग कर सकते हैं और पोस्ट ग्रेजुएट छात्र 40 A4 साइज की शीट का उपयोग कर सकते हैं, और उत्तर लिखने के लिए शीट के केवल एक तरफ का उपयोग किया जाना चाहिए. उम्मीदवारों को उनके आंसर शीट के पहले पृष्ठ पर उनके नाम, सेमेस्टर, वर्ग, कुल पृष्ठों की संख्या सहित विवरण दर्ज करना आवश्यक है.

Punjab University के लिए उत्तर पुस्तिकाओं को जमा करने का प्रोसेस

सुबह के स्लॉट में आने वाले छात्रों को परीक्षा के उसी दिन स्पीड पोस्ट / पंजीकृत पोस्ट के माध्यम से उत्तर पुस्तिका की हार्ड कॉपी को एक सीलबंद लिफाफे में विश्वविद्यालय को जमा करना होगा. शाम के स्लॉट (1.30pm से 4.30pm) पर आने वाले छात्रों को वेबसाइट पर दिए गए लिंक पर पेपर पूरा होने के एक घंटे के भीतर अपनी उत्तर पुस्तिकाएं अपलोड करनी होगी, जहां से प्रश्नपत्र डाउनलोड किया गया था. हालांकि, उन्हें पोस्ट ऑफिस के खुलने के दो घंटे के भीतर अगले कार्य दिवस पर पीयू को उत्तर पुस्तिका की हार्ड कॉपी भी देनी होगी.

इसके अलावा, नेत्रहीन और / या विकलांग छात्रों को विश्वविद्यालय के नियमों के अनुसार एक असिस्टेंट या लेखक से सहायता लेने की अनुमति है और इस उद्देश्य के लिए कोई अलग अनुमति की आवश्यकता नहीं है.