QS Ranking 2020: भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) बॉम्बे टॉप 200 Quacquarelli Symonds (QS) वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग 2021 में केवल तीन संस्थानों में से एक है. हालांकि, इसका प्रदर्शन सूची के बेहतरीन 20 संस्थानों में सबसे खराब रहा है. आईआईटी बॉम्बे 2020 की सूची में 152वें स्थान पर था लेकिन इस बार यानी 2021 की सूची में 172 वें स्थान पर है.

क्यूएस वर्ल्ड रैंकिंग एक साल पहले घोषित की जाती है. हालांकि समग्र रैंकिंग की घोषणा की गई है, लेकिन रोजगार के आधार पर अन्य सूची, विषयवार रैंकिंग अगले कुछ महीनों में जारी की जाएगी. इस साल, क्यूएस ने खुलासा किया है कि कोविड -19 महामारी के कारण उनके काम में देरी हुई है. शीर्ष 200 में स्थान बनाने वाले केवल दो अन्य संस्थान बेंगलुरू के इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस (IISc) पिछले साल 184 वीं रैंक से 154 वें स्थान पर और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान-दिल्ली 193 वें स्थान पर हैं, जो कि 2020 की सूची में 182 वें रैंक से नीचे हैं.

आईआईटी-बॉम्बे के निदेशक सुभासिस चौधुरी ने कहा कि आईआईटी-बॉम्बे ने भारत में नंबर एक का स्थान बरकरार रखते हुए खुशी जताई है, लेकिन वैश्विक रैंकिंग में गिरावट कुछ ऐसी ही है, जिसके बारे में हम चिंतित हैं. यह रैंकिंग के शैक्षणिक प्रतिष्ठा (एआर) भाग से जुड़ा हुआ प्रतीत होता है जो कुल स्कोर का 40% है. हमारा AR स्कोर पिछले साल के करीब था इसलिए हम इसे QS के साथ ले लेंगे. उन्होंने कहा कि आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए श्रेणी की शुरुआत के कारण संस्थान के छात्र-संकाय अनुपात में भी गिरावट आई है, जिससे समग्र स्कोर प्रभावित होने की संभावना है.

हैरानी की बात है कि इस साल सूची में मुंबई विश्वविद्यालय का कोई उल्लेख नहीं है. पिछले साल यूनिवर्सिटी को 801-850 रैंकिंग के बीच रखा गया था, लेकिन विश्वविद्यालय इस वर्ष सूची में कहीं भी रिफ्लेक्ट नहीं करता है. विश्वविद्यालयों का प्रदर्शन अकादमिक रेपुटेशन, नियोक्ता रेपुटेशन, प्रति संकाय के लिए प्रशस्ति पत्र, संकाय छात्र अनुपात, अंतर्राष्ट्रीय संकाय और अंतरराष्ट्रीय छात्रों जैसे विभिन्न मापदंडों पर मापा जाता है. इस साल क्यूएस रैंकिंग में सूची बनाने वाले अन्य संस्थानों में आईआईटी-मद्रास और आईआईटी-खड़गपुर शामिल हैं, दोनों संस्थान की रैंकिंग में गिरावट देखी जा रही है जबकि आईआईटी मद्रास चार अंकों के गिरावट के साथ इस साल 275 वीं रैंक पर हैं. वहीं आईआईटी खड़गपुर इस साल की रैकिंग में 33 अंकों की गिरावट के साथ 281 से गिरकर 314 पर हैं.