जयपुर: देशभर में मार्च के अंत में हुए लॉकडाउन के बाद ‘नो स्कूल, नो फीस’ को लागू करने की मांग अभिभावकों द्वारा जमकर उठाई गई. इसके बाद भी कई स्कूलों ने फीस की मांग की. राजस्थान के शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने गुरुवार को कहा कि स्कूलों को कम से कम कुछ समय के लिए माता-पिता से पूरी फीस की मांग करने से बचना चाहिए. Also Read - School Fees: लॉकडाउन व कोरोना से बंद हैं स्कूल, SC का फैसला- School वसूलेंगे सिर्फ इतनी फीस

उन्होंने कहा, “माता-पिता को इस बारे में चिंता नहीं करनी चाहिए, क्योंकि उनकी सभी चिंताओं को सुना जाएगा. जब मार्च के मध्य से कोई स्कूल नहीं चल रहे हैं, तो स्कूल प्रबंधन पूरी फीस कैसे मांग सकते हैं. पिछले शैक्षणिक सत्र के दौरान मार्च में परीक्षाएं आयोजित की गई थीं, तब से स्कूल नहीं खोले गए हैं.” Also Read - Rajasthan: शिक्षामंत्री डोटासरा के बिगड़े बोल- हम कमल को पैरों तले रौंदेगें तो वो क्या कहेंगे

उन्होंने आगे कहा, “हमने पहले ही 15 मार्च से 15 जून की तीन महीने की फीस का भुगतान करने से अभिभावकों को मना किया है, क्योंकि हमारी योजना स्कूलों को 1 जुलाई से खोलने की थी. हालांकि, अभी तक भारत सरकार या अन्य राज्यों द्वारा इस पर कोई निर्णय नहीं लिया गया है. हम जल्द ही इस मुद्दे पर निर्णय लेंगे.” Also Read - School Fees: स्कूल फीस में 40 फीसदी तक होगी कटौती, सरकार ने दिया निर्देश

मंत्री ने यह भी कहा, “जब हम स्कूल के फिर से खोलने के मुद्दे पर निर्णय लेंगे तो इससे जुड़े सभी मामले- फीस भुगतान, सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क का वितरण, पाठ्यक्रम में कटौती समेत अन्य सभी मामलों पर चर्चा करके निर्णय लेंगे. तब तक, माता-पिता और छात्रों को चिंता करने की जरूरत नहीं है.”