Sainik School Admission: सरकार (Government Of India) ने बुधवार को कहा कि उसने देश के सभी सैनिक स्कूलों (Sainik School) में शैक्षणिक सत्र 2021-22 (Academic Session 2021-22) से बालिका कैडेटों (Girls Cadets) का दाखिला करने का फैसला किया है. लोकसभा (Lok Sabha) में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में रक्षा राज्य मंत्री श्रीपद नाईक (Shripad Naik) ने कहा कि शैक्षणिक सत्र 2018-19 (Academic Session 2018-19) में मिजोरम के चिंनिंगचिप सैनिक स्कूल (Sainik School Chhingchhip, Mizoram) में बालिका कैडेटों के दाखिले की पायलट परियोजना की सफलता के बाद सरकार ने यह फैसला किया है कि शैक्षणिक सत्र 2021-22 से सभी सैनिक स्कूलों (Sainik School) में लड़कों के साथ बालिका कैडेटों का दाखिला किया जायेगा.Also Read - Sainik School Admission 2022: आवेदन की अंतिम तारीख आ गई नजदीक, जल्दी करें आवेदन, जानें प्रक्रिया

गौरतलब है कि देश में अभी 33 सैनिक स्कूल (Sainik School) चल रहे हैं. उन्होंने यह भी कहा कि सरकार ने एनजीओ, निजी स्कूलों और राज्य सरकारों के साथ गठजोड़ से सैनिक स्कूलों (Sainik School) की स्थापना के लिए नई योजना का प्रस्ताव किया है.  नाइक (Shripad Naik) ने कहा, “यह प्रयास ‘CBSE प्लस’ प्रकार के शैक्षिक वातावरण में शैक्षिक वातावरण प्रदान करने के लिए है, जिसमें सैनिक स्कूल लोकाचार, मूल्य प्रणाली और राष्ट्रीय गौरव के साथ अपनी प्रणाली को स्थापित / संरेखित करने में भागीदार सरकारी / निजी स्कूलों / गैर सरकारी संगठनों को शामिल किया जाता है.” सैनिक स्कूल (Sainik School) सैनिक स्कूल सोसायटी (Sainik School Society) द्वारा चलाए जाते हैं, जो रक्षा मंत्रालय (Ministry Of Defence) के प्रशासनिक नियंत्रण में है. सैनिक स्कूलों (Sainik School) की स्थापना का उद्देश्य छात्रों को कम उम्र से भारतीय सशस्त्र बलों में प्रवेश के लिए तैयार करना है. Also Read - Sainik School Admission 2022: सैनिक स्कूल में दाखिले के जल्दी करें आवेदन, 26 अक्टूबर है अंतिम तारीख, पाएं पूरी जानकारी

सैनिक स्कूल (Sainik School) राज्य सरकारों से विशिष्ट अनुरोध प्राप्त होने पर स्थापित किए जाते हैं. इससे पहले, केवल लड़के कैडेटों को सैनिक स्कूलों (Sainik School) में दाखिला लेने की अनुमति थी. एक और सवाल के जबाव के अनुसार नाइक ने कहा कि 2020-21 के दौरान पूर्वोत्तर राज्यों से कोई गठन या इकाई वापस नहीं ली गई है. उन्होंने कहा, “पूर्वोत्तर क्षेत्र में सुरक्षा की स्थिति को देखते हुए कुछ सेना इकाइयों की परिचालन भूमिका को फिर से संरेखित किया गया है.” Also Read - Sainik School Admission 2022: सैनिक स्कूल में दाखिला लेने की अंतिम तारीख नजदीक, जल्दी करें आवेदन, जानें पूरी प्रक्रिया