Sarkari Naukri, Common Eligibility Test (CET) 2022: देश में सरकारी नौकरी (Sarkari Naukri) की तैयारी कर रहे युवाओं के लिए एक अच्छी खबर है. अगले साल से सभी केंद्रीय सरकारी नौकरी के लिए अब एक ही परीक्षा होगी. केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा कि नौकरी के इच्छुक उम्मीदवारों के लिए सामान्य पात्रता परीक्षा (CET) अगले साल की शुरुआत से पूरे देश में आयोजित की जाएगी.Also Read - WCD Delhi Recruitment 2021: दिल्ली सरकार के इस विभाग में इन पदों पर बिना परीक्षा के मिल सकती है नौकरी, आज से आवेदन शुरू, 35000 होगी सैलरी

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की नौकरियों में भर्ती के लिए उम्मीदवारों की ‘स्क्रीनिंग’ और ‘शॉर्टलिस्ट’ करने को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के व्यक्तिगत हस्तक्षेप से शुरू की गई सीईटी की यह अनूठी पहल इस साल के अंत से शुरू होने वाली थी, लेकिन कोविड महामारी के कारण इसमें देरी होने की संभावना है. Also Read - Anganwadi Recruitment 2021: आंगनवाड़ी में इन विभिन्न पदों पर आवेदन करने की कल है अंतिम डेट, बिना एग्जाम होगा सेलेक्शन, इस Direct Link से करें अप्लाई

कार्मिक मंत्रालय की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के अधिकारियों की ‘ई-बुक सिविल लिस्ट-2021’ के विमोचन के बाद सिंह ने कहा कि सीईटी कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग (डीओपीटी) द्वारा किया गया महत्वपूर्ण सुधार है. यह नौकरी के इच्छुक उम्मीदवारों, खासकर दूरदराज के इलाकों में रहने वाले युवाओं के लिए एक बड़ा वरदान साबित होगा. Also Read - SSC GD Constable Recruitment 2021: SSC में 25000 से अधिक कांस्टेबल के पदों पर निकली वैकेंसी, 10वीं पास जल्द करें आवेदन, 69000 होगी सैलरी

मंत्री ने आगे बताया कि केंद्रीय मंत्रिमंडल की मंजूरी से सीईटी आयोजित करने के लिए राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी (एनआरए) का गठन किया गया है. बयान में कहा गया, ‘‘एनआरए सरकारी क्षेत्र में नौकरियों के लिए उम्मीदवारों की स्क्रीनिंग, शॉर्टलिस्ट करने के लिए सीईटी आयोजित करेगी, जिसके लिए वर्तमान में कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी), रेलवे भर्ती बोर्ड (आरआरबी) और इंस्टीट्यूट ऑफ बैंकिंग पर्सोनेल सिलेक्शन (आईबीपीएस) के माध्यम से भर्ती की जाती है.’’

सिंह ने कहा कि एनआरए एक बहु-एजेंसी निकाय होगा, जो समूह ‘बी’ और ‘सी’ (गैर-तकनीकी) पदों के संबंध में उम्मीदवारों की स्क्रीनिंग और शॉर्टलिस्ट करने के लिए सामान्य परीक्षा आयोजित करेगा. उन्होंने कहा कि इस सुधार की सबसे महत्वपूर्ण विशेषता यह है कि देश के प्रत्येक जिले में कम से कम एक परीक्षा केंद्र होगा, जिससे दूर-दराज के क्षेत्रों में रहने वाले उम्मीदवारों को काफी सहूलियत होगी.