School Reopen Latest News: कोरोना महामारी ने देशभर में तबाही का मंजर खड़ा कर दिया है. इसकी वजह से लोगों का जीने का तौर तरीका भी बदल गया है. सभी स्कूल और कॉलेज पिछले पांच महीने से बंद पड़े हैं. इससे छात्रों के पढ़ाई पर भी बुरा असर पड़ रहा है. वहीं कोरोना संक्रमण के कारण स्कूल खोले जाने को लेकर भी पैरेंट्स भी चिंतित हैं. पैरेंट्स के ग्रुप ने पीएम मोदी से फिलहाल स्कूल नहीं खोले जाने की अपील की है. शिक्षा मंत्रालय के अनुसार अभी स्थिति का आकलन किया जा रहा है. इसके बाद इसी आधार पर ही आगे कोई फैसला लिया जाएगा. Also Read - New Education Policy 2020: रमेश पोखरियाल ने कहा- इस शिक्षा नीति को अपने यहां लागू करने के लिए मंत्रालय से 10 देशों ने किया संपर्क 

स्कूल खोलने को लेकर क्या योजना है, विशेषकर प्राथमिक स्तर के छात्रों के लिए, इसपर केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा, “अनलॉक 3 की गाइडलाइंस के तहत गृह मंत्रालय ने स्कूल, कॉलेज और सभी कोचिंग संस्थान 31 अगस्त तक बंद रखने का निर्देश दिया है. आगे गृह मंत्रालय की जो भी गाइडलाइंस आएगी, उसके अनुसार हम निर्णय लेंगे.” फिलहाल कोरोना संक्रमण को देखते हुए पूरे देश भर में 31 अगस्त तक सभी स्कूल कॉलेज बंद हैं. इसलिए स्कूल खोलने को लेकर कोई भी नया निर्णय सितंबर माह के दौरान ही लिया जा सकता है. Also Read - New Education Policy 2020: केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने कहा- नई शिक्षा नीति नौकरियों और एंटरप्रेन्योर को क्रिएट करने में करेगा मदद

इससे पहले HRD संसदीय स्थायी समिति की बैठक सोमवार 10 अगस्त को हुई थी. सूत्रों के अनुसार बताया जा रहा था कि बैठक में यह निर्णय लिया गया है कि इस वर्ष कॉलेजों में शून्य वर्ष नहीं होगा. इसका अर्थ है कि अंतिम वर्ष की परीक्षाएं वर्ष के अंत में आयोजित की जाएंगी. कुछ राज्यों में सक्रिय कोरोना वायरस मामलों की संख्या में गिरावट के बाद सरकार ने कथित तौर पर 1 सितंबर से 14 नवंबर तक चरण-वार तरीके से सामान्य कक्षाओं को फिर से शुरू करने की योजना तैयार की है. Also Read - CBSE Compartment Exam 2020: सुप्रीम कोर्ट ने CBSE, UGC से कहा- छात्रों का कैरियर नुकसान न हो, इसके लिए उठाएं उचित कदम

स्कूलों में ऑनलाइन कक्षाओं को लेकर बैठक में कक्षा 3 तक के ऑनलाइन कक्षाओं की जगह कॉल करने का सुझाव दिया गया है. इस सुझाव के अनुसार बताया गया है कि कक्षा 3 से 7 के लिए ऑनलाइन कक्षाएं सीमित व्यवस्था में होनी चाहिए और कक्षा 8 और उससे ऊपर के छात्रों के लिए पूर्ण ऑनलाइन कक्षाएं होनी चाहिए.