School Reopening Latest News: आंध्र प्रदेश सरकार (Andhra Pradesh Government) ने 2 नवंबर से स्कूलों (School Reopening in Unlock 5.0) को फिर से खोलने का फैसला किया है. राज्य 5 अक्टूबर को बच्चों को जगन्नाला विद्या दीवेना किट (Jagananna Vidya Deevena kits) वितरित करेगा, ताकि जब स्कूल खुले तो उस समय बच्चों का ड्रेस समय पर सिले हो सकें. मुख्यमंत्री के कार्यालय ने बताया कि प्रत्येक किट में तीन जोड़ी यूनिफॉर्म, पाठ्यपुस्तक, नोटबुक, एक जोड़ी जूते, दो जोड़ी मोजे, बेल्ट और एक स्कूल बैग शामिल होगा.Also Read - Covid-19 R Value: कोरोना के R Value में फिर हो रही बढ़ोत्तरी, केरल में सबसे अधिक मामले, जानिए क्या है यह

सरकार ने 5 अक्टूबर से स्कूलों को फिर से खोलने का फैसला किया था, हालांकि, राज्य भर में COVID-19 ​​महामारी की स्थिति को देखते हुए तारीखों को स्थगित कर दिया गया था. मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी (YS Jagan Mohan Reddy) ने मंगलवार को यहां आयोजित स्पंदना (Spandana) वीडियो कॉन्फ्रेंस के दौरान कही. मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को जल्द से जल्द काम पूरा करने के लिए नाडु-नेदु योजना (‘Nadu-Nedu’ scheme) के पहले चरण पर ध्यान केंद्रित करने का निर्देश दिया. इस योजना के तहत शिक्षा के माध्यम के रूप में अंग्रेजी को राज्य में संचालित स्कूलों में कक्षा 1 से 6वीं तक के छात्रों के लिए पेश किया जाएगा. पहले चरण में 15,715 स्कूलों की पहचान की गई, जहां स्कूलों में 10 सुविधाएं प्रदान की जाएंगी. अब तक कुल 15,715 स्कूलों में से 15,562 स्कूलों में काम चल रहा है, जबकि 153 स्कूलों में काम शुरू होना बाकी है. Also Read - केरल बना कोरोना का गढ़, लेफ्ट सरकार की मदद के लिए केंद्र भेजेगी 6 सदस्यीय टीम

अधिकारियों ने बताया कि 701 शौचालयों में स्लैब का काम किया जाना है. अधिकारियों को सभी कार्यों को जल्द से जल्द पूरा करने का निर्देश दिया गया है और जेसी से कहा गया है कि वे दैनिक आधार पर कामों की निगरानी करें. 5 अक्टूबर को जगन्नाथ विद्या कनुका के वितरण के अलावा मुख्यमंत्री ने कहा कि 35 अनुसूचित क्षेत्रों में आदिवासियों को RoFR pattas का वितरण 2 अक्टूबर को गांधी जयंती (Gandhi Jayanti) के उपलक्ष्य में होगा. आंगनवाड़ी केंद्रों के संबंध में 27,564 केंद्रों को किराये के स्थानों में संचालित किया जा रहा है, अधिकारियों को उन्हें स्थायी भवनों में स्थानांतरित करने के लिए कहा गया था. अब तक 14,738 स्थानों पर भूमि की पहचान की गई थी और 12,826 केंद्रों के लिए उपयुक्त भूमि की पहचान की जानी बाकी है. स्पंदना कार्यक्रम (Spandana programme) में उपमुख्यमंत्री अल्ला नानी, मंत्री बोत्सा सत्यनारायण, कन्नबाबू, आदिमलापु सुरेश, अन्य अधिकारी शामिल थे. Also Read - Lockdown in Kerala News: केरल में इन तारीखों को लगेगा फुल लॉकडाउन, केंद्र भेज रहा टीम