Schools Reopen: देश में फैले कोरोना महामारी के कारण सभी स्कूल मार्च से बंद हैं और अब गृह मंत्रालय के आदेश के बाद सख्त गाइडलाइंस के साथ 9वीं से 12वीं तक की कक्षा को शुरू करने की मंजूरी मिल गई है. इसके बाद छह महीने से बंद नवोदय, सैनिक स्कूल और कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय आवासीय स्कूलों को खोलने की तैयारी पूरी हो गई है.Also Read - Omicron का खतरा : दक्षिण अफ्रीका से लौटे चंडीगढ़ में तीन, बेंगलुरू में दो कोरोना पॉजिटिव; वेरिएंट की जांच जारी

देश में सबसे पहले ये स्कूल खोले जा रहे हैं, स्कूल सबसे पहले 10 वीं और 12वीं बोर्ड के छात्रों के लिए खोला जाएगा और फिर उसके बाद 9वीं और 11वीं के छात्रों को बुलाया जाएगा. गृह मंत्रालय की अनुमति के बाद जारी किए गए गाइडलाइन के मुताबिक इन स्कूलों को खोला जाएगा. इन स्कूलों के अक्टूबर के आखिर और नवंबर के पहले सप्ताह में खोलने की संभावना है. Also Read - Shocking: 15 महीने से मुर्दाघर में रखे थे कोरोना संक्रमित दो शव, सफाई करने गए कर्मियों ने जैसे ही देखा...

स्कूल के अधिकारियों से मिली जानकारी के मुताबिक, इन सरकारी आवासीय स्कूलों को खोलने की तैयारी जोर-शोर से चल रही है. इसके लिए विभिन्न स्कूल प्रबंधन ने सरकार को स्कूल खोलने का पूरा प्लान दिया है. इस प्लान के तहत बोर्ड परीक्षा के छात्रों को क्लासरूम से हॉस्टल तक सामाजिक दूरी के नियमों के तहत रखा जाएगा. स्वास्थ्य मंमंत्रालय के विशेष दिशानिर्देश के तहत ही स्कूल खोले जाएंगे. Also Read - दक्षिण अफ्रीका से मुंबई लौटा शख्स Corona संक्रमित मिला, क्या Omicron ने देश में दी दस्तक, जानें

इन स्कूलों को खोलने से पहले छात्रों, शिक्षकों और शिक्षकेतर अन्य कर्मियों जैसे- कुक, सफाईकर्मी इत्यादि सारे स्टाफ्स का पहले कोविड-19 टेस्ट होगा और इसी रिपोर्ट के आधार पर वे कैंपस में दोबारा लौट सकेंगे. इसके साथ ही कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए छात्र, शिक्षकों को स्कूली कैंपस से बाहर जाने की अनुमति नहीं होगी और कोई भी बाहरी व्यक्ति कैंपस में नहीं आ सकेगा.

गाइडलाइन के मुताबिक स्कूलों में 9वीं से 12वीं के छात्रों के हिसाब से प्लान तैयार किया गया है. इस प्लान के मुताबिक स्कूलों में किसी भी तरह के स्पोर्ट्स की क्लासेज नहीं होंगी और प्रार्थना सभा पर भी रोक रहेगी. इसके अलावा हॉस्टल में भी एक कमरे में दो ही छात्र होंगे. छात्र समूह में इकट्ठा नहीं होंगे. शारीरिक दूरी का पालन अनिवार्य होगा. मास्क पहनकर ही प्रवेश करना होगा.