Syllabus Reduce: शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी (Partha Chatterjee) ने बुधवार को कहा कि पश्चिम बंगाल सरकार ने माध्यमिक और उच्च माध्यमिक स्तर पर पाठ्यक्रम को कम करने के लिए एक विशेषज्ञ पैनल की सिफारिशों को स्वीकार कर लिया है. चटर्जी (Partha Chatterjee) ने संवाददाताओं से कहा कि पाठ्यक्रम सुधार समिति, माध्यमिक बोर्ड और उच्चतर माध्यमिक परिषदों ने COVID-19 स्थिति के कारण 2020-21 के शैक्षणिक वर्ष के लिए मध्यमिक (कक्षा 10) और उच्च मध्यमिक (कक्षा 12) पाठ्यक्रम में बदलाव का सुझाव दिया है. Also Read - WB TET Admit Card 2021 Released: WB TET 2021 प्राइमरी का एडमिट कार्ड हुआ जारी, ये है डाउनलोड करने का Direct Link 

मंत्री ने कहा, “हमने माध्यमिक और उच्चतर माध्यमिक स्तरों पर पाठ्यक्रम के भार को कम करने के लिए उनकी रिपोर्ट को स्वीकार कर लिया है.” पाठ्यक्रम सुधार समिति के एक अधिकारी ने कहा कि माध्यमिक और उच्चतर माध्यमिक स्तरों पर पाठ्यक्रम भार में 30-35 प्रतिशत की कटौती होगी. एक प्रश्न का जबाव देते हुए चटर्जी (Partha Chatterjee) ने कहा, पश्चिम बंगाल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (West Bengal Board of Secondary Education) और वेस्ट बंगाल काउंसिल ऑफ हायर सेकेंडरी एजुकेशन (West Bengal Council of Higher Secondary Education) उचित समय पर अगले वर्ष की माध्यमिक (Madhyamik) और उच्च माध्यमिक परीक्षा (Uccha Madhyamik Exam) आयोजित करने की तारीखों की घोषणा करेंगे. Also Read - School Reopening Latest News: इस राज्य में अक्टूबर में भी नहीं खुलेंगे स्कूल, सीएम ने दिए ये संकेत, जानिए पूरा मामला 

मंत्री ने संकेत दिया कि राज्य-संचालित या निजी स्कूल खोलने की कोई “तत्काल संभावना” नहीं है. उन्होंने कहा कि स्कूल शिक्षा विभाग यह सुनिश्चित करेगा कि स्कूल फिर से खोलने से पहले COVID-19 सुरक्षा मानदंडों को बनाए रखने के लिए आवश्यक उपाय करें. Also Read - National Education Policy 2020: पश्चिम बंगाल के शिक्षा मंत्री ने सरकार पर खड़ा किए सवाल, कहा- संसद में नहीं किया गया पारित