नई दिल्ली: छात्रों की दक्षता, कौशल एवं अभिक्षमता (एप्टीट्यूड) के मूल्यांकन के लिये मानव संसाधन विकास मंत्रालय के मार्गदर्शन में एप्टीट्यूट टेस्ट ‘‘तमन्ना’’ विकसित किया गया है. मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि इस एप्टीट्यूड टेस्ट ‘तमन्ना’ को केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) और राष्ट्रीय शैक्षणिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (NCERT) ने तैयार किया है जो 9वीं एवं 10वीं कक्षा के छात्रों के लिए है.

उन्होंने कहा कि सीबीएसई ने इसके लिए प्रश्नों का प्रयोग के तौर पर परीक्षण अपने संबद्ध स्कूलों में पढ़ने वाले 17 हजार छात्रों पर किया था. मंत्रालय का मानना है कि अभिक्षमता या एप्टीट्यूड का एक महत्वपूर्ण आयाम मनोवैज्ञानिक गुण है जो यह पूर्वानुमान लगाने में सहायक होता है कि किसी व्यक्ति का मजबूत पक्ष क्या है. ऐसे में ‘तमन्ना’ (ट्राइ एंड मेजर एप्टीट्यूट एंड नेचुरल एबिलिटी) से छात्र अपनी खूबियों से अवगत होकर आगे कैरियर के बारे में निर्णय कर सकेंगे.

‘तमन्ना’ एप्टीट्यूट टेस्ट में सात शीर्षक के तहत छात्रों के लिए प्रश्न तैयार किए गए हैं जिसमें भाषा अभिक्षमता के 30 प्रश्न, अमूर्त तर्क के तहत 30 प्रश्न, मौखिक तर्क के तहत 30 प्रश्न, यांत्रिक तर्क के तहत 30 प्रश्न, संख्यात्मक अभिक्षमता के तहत 30 प्रश्न, स्थानिक अभिक्षमता के तहत 30 प्रश्न, अवधारणात्मक अभिक्षमता के तहत 60 प्रश्न होंगे. इन प्रश्नों के उत्तर 70 मिनट में देने होंगे.

अधिकारियों ने बताया कि भारतीय संदर्भ के अनुसार देश में 11 स्थानों से 5491 छात्रों से संग्रहित डाटा के आधार पर मानक तैयार किये गए हैं.