TBSE 10th Result 2020: त्रिपुरा बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (TBSE) 3 जुलाई यानी कल कक्षा 10वीं का रिजल्ट जारी करेगा. रिजल्ट की घोषणा बोर्ड कार्यालय से सुबह 9 बजे की जाएगी. परीक्षा में लगभग 39,000 छात्र उपस्थित हुए, जो दो खंडों – पुराने और नए पाठ्यक्रम में आयोजित किए गए थे. परीक्षा 3 मार्च से आयोजित की गई थी. हालांकि, कोरोना वायरस के कारण लॉकडाउन की वजह से बीच में बाधित हो गया था.Also Read - Board Exam 2021: Tripura Board TBSE 10th, 12th Exam 2021: इस राज्य में कक्षा 10वीं, 12वीं बोर्ड परीक्षा होगी या नहीं! शिक्षा मंत्री ने इसको लेकर दी ये लेटेस्ट अपडेट्स 

सरकार ने 10 वीं और 12 वीं दोनों परीक्षाओं के लंबित पेपरों को भी रद्द कर दिया गया था. शिक्षा मंत्री रतन लाल नाथ ने कहा कि केंद्रीय शिक्षा बोर्डों की लंबित परीक्षाओं के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट के हालिया फैसले की अंतर्दृष्टि का फैसला किया गया था. कक्षा 10 के लिए भौतिक विज्ञान और जीवन विज्ञान के लिए लंबित परीक्षाएँ क्रमशः 5 जून और 6 जून को होनी थीं। कक्षा 12वीं के छात्रों के लिए 5 जून को संस्कृत और सांख्यिकी की परीक्षा, 6 जून को अर्थशास्त्र, 8 जून को मनोविज्ञान, 9 जून को अरबी और संगीत, 10 जून को भूगोल और 11 जून को होम प्रबंधन, होम नर्सिंग और पोषण विषय की परीक्षा होनी थी. Also Read - Board Exam 2021 Postponed Tripura Board TBSE 10th, 12th Exam 2021 स्थगित हुई इस राज्य की 10वीं, 12वीं की बोर्ड परीक्षा, शिक्षा मंत्री ने दी ये लेटेस्ट अपडेट्स

इन माध्यम के तहत TBSE 10th Result 2020 करें चेक 
वेबसाइटें Also Read - Board Exam 2021 Date Sheet: मई में शुरू होगी इस राज्य की 10वीं, 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं, अध्यक्ष ने इसको लेकर कही ये बात

छात्र अपना रिजल्ट बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट schooleducation.tripura.gov.in पर जाकर देख सकते हैं. इसके अलावा इन वेबसाइटों tbse.in, tripura.nic.in की मदद से रिजल्ट देख सकते हैं.

फोन कॉल के जरिए करें चेक

उम्मीदवार अपना रिजल्ट इन नंबरों 0381-241 3946, 241 0048, 241 0049, 241 0053, 241 0173, 241 0174, 241 0176 और 0381-2380566 को डायल करके चेक कर सकते हैं.

राज्य ने 2019 में माध्यमिक की परीक्षाओं में लगभग 65 प्रतिशत छात्र उत्तीर्ण हुए थे. उदयपुर इंग्लिश मीडियम एचएस स्कूल से तथागत दत्ता ने 481 अंक हासिल करके पहली रैंक हासिल की थी. राज्य में 53 स्कूलों में 100 प्रतिशत उत्तीर्ण प्रतिशत रहा है जबकि 34 स्कूलों में 100 प्रतिशत असफलता दर भी दर्ज की गई थी.