नई दिल्ली: विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने सभी विश्वविद्यालयों को विदेशों में भारतीय मिशन को सही तथा बगैर किसी देरी के डिग्री सत्यापन रिपोर्ट भेजने का निर्देश दिया है. एक प्रक्रिया के तहत विदेशों में शिक्षा मंत्रालय नौकरियों के इच्छुक भारतीय डिग्रीधारी छात्रों से सत्यापन रिपोर्ट की मांग करते हैं. इसके बाद वाणिज्य दूतावास भारत में विश्वविद्यालयों से सत्यापन रिपोर्ट मिलने के बाद ‘प्रमाणिक प्रमाणपत्र’ जारी करता है.

JEE Main 2020: शुरू हो गए हैं रजिस्ट्रेशन, अप्लाई करने के लिए ऐसे भरें एप्लीकेशन

प्रवासी भारतीय मामलों के सचिव की हाल में दुबई यात्रा के दौरान भारतीय विश्वविद्यालयों द्वारा डिग्री सत्यापन में देरी को लेकर चिंता जताई गई. यूजीसी के सचिव पी के ठाकुर ने कुलपतियों को लिखे पत्र में कहा, ‘‘प्रवासी भारतीय मामलों के सचिव की हाल में दुबई यात्रा के दौरान हुई बैठकों में उठे कई मुद्दों में एक मुद्दा विदेशों में मिशन को भारतीय विश्वविद्यालयों द्वारा भेजे गई सत्यापन रिपोर्ट से संबंधित था.’’

उन्होंने कहा, ‘‘ऐसा महसूस किया गया कि सत्यापन रिपोर्ट को और शीघ्रता से भेजे जाने की जरूरत है, ताकि नौकरी पाने के इच्छुक भारतीय डिग्री धारकों को वाणिज्य दूतावास प्रमाणिक प्रमाणपत्र जारी कर सके.’’ आयोग ने विश्वविद्यालयों को निर्देश दिया कि वे समय पर उचित तरीके से ‘‘वाणिज्य दूतावास की आवश्यकता अनुसार विस्तृत जानकारी के साथ अंग्रेजी में टाइप’’ की गई रिपोर्ट भेजें.