नई दिल्ली: नेशनल टेस्टिंग एजेंसी ने कोरोना वायरस के कारण उत्पन्न हुए हालात को ध्यान में रखते हुए यूजीसी नेट की परीक्षा 23 सितंबर के बाद आयोजित कराने का निर्णय लिया है. सोमवार को नेशनल टेस्टिंग एजेंसी यानी एनटीए ने इसको लेकर एक आदेश जारी किया है. नेशनल टेस्टिंग एजेंसी की वरिष्ठ निदेशक डॉ.साधना पराशर ने यह आदेश जारी करते हुए कहा कहा, “आईसीएआर, जूनियर रिसर्च फैलोशिप, सीनियर रिसर्च फैलोशिप समेत कई परीक्षाएं 16 से 23 सितंबर के बीच अलग-अलग तारीखों में होनी हैं. Also Read - UGC NET Exam: एप्लिकेशन करेक्शन विंडो आज इस समय तक रहेगी खुली, ऐसे करें परीक्षा फॉर्म में सुधार  

इसी के मद्देनजर यूजीसी नेट की परीक्षाएं 24 सितंबर से करवाने का निर्णय लिया गया है. कई छात्र ऐसे हैं, जिन्होंने यूजीसी नेट के साथ ही अन्य परीक्षाओं में भी शामिल होने के लिए अपना पंजीकरण कराया है. इन्हीं छात्रों की सुविधा को देखते हुए यूजीसी नेट की परीक्षाएं आगे बढ़ाई की गई हैं.” डॉ. साधना पराशर ने कहा, “फिलहाल यूजीसी नेट के लिए विषय वार परीक्षाओं की तिथियों का ऐलान अभी नहीं किया गया है. जल्द ही विषय वार तिथियों का ऐलान किया जाएगा.” Also Read - UGC NET Exam: परीक्षा आज, एग्जाम हॉल में बैठने से पहले चेक कर लें ये जरूरी बातें

इससे पहले छात्रों द्वारा की गई अपील एवं कोरोना वायरस के कारण उत्पन्न हुए कठिन हालातों के मद्देनजर नेशनल टेस्टिंग एजेंसी ने विभिन्न परीक्षाओं के लिए ऑनलाइन आवेदन जमा करने की आखिरी तिथि आगे बढ़ाई थी. जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय द्वारा ली जाने वाली प्रवेश परीक्षाएं, इग्नू पीएचडी, एमबीए, यूजीसी नेट, आयुष मंत्रालय के पोस्ट ग्रेजुएशन कार्यक्रम, ज्वाइंट यूजीसी नेट और आईसीएआर प्रवेश परीक्षाओं के आवेदन की तिथि को भी बढ़ाया गया था. Also Read - Joint CSIR-UGC Test for Junior Research Fellowship Eligibility for Lectureship Online registration begins| CSIR UGC NET के लिए ऑनलाइन रजिस्‍ट्रेशन शुरू, जून में होगी परीक्षा

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय समेत पीएचडी, एमबीए, यूजीसी नेट आदि आदि के पाठ्यक्रमों की प्रवेश परीक्षाओं के लिए आवेदन करने की पहली तिथि 30 अप्रैल थी. देशभर में फैले कोरोना में फैले कोरोना संकट के कारण इसे बार-बार स्थगित करना पड़ा है. कुल मिलाकर अभी तक इन प्रवेश परीक्षाओं में आवेदन का समय 2 महीने से अधिक के लिए स्थगित किया जा चुका है. यह कदम इसलिए उठाया गया है, ताकि सभी छात्र इन परीक्षाओं के लिए सरलता और सुलभता के साथ आवेदन कर सकें.