चंडीगढ़. पंजाब में कांग्रेस सरकार विपक्ष के निशाने पर है. कांग्रेस के राणा गुरजीत सिंह ने बिजली और सिंचाई मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है. गुरजीत सिंह ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को अपना इस्तीफा दिया. राणा गुरजीत पर आरोप था कि उन्होंने अपने स्टाफ के नाम पर करोड़ों के रेत खनन के ठेके हासिल किए. सूत्र बता रहे हैं कि विपक्ष के आरोपों के बाद राहुल गांधी ने ही गुरजीत सिंह को पद छोड़ने के लिए कहा था.Also Read - गोवा में कांग्रेस को बड़ा झटका! पूर्व CM लुइजिन्हो फलेरियो ने छोड़ी पार्टी; TMC में शामिल होने की अटकलें

राणा गुरजीत सिंह और उनके परिवार से जुड़ी कंपनियों का नाम रेत खनन आवंटन की गड़बड़ियों में आ रहा था. पिछले दिनों प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने गुरजीत सिंह के बेटे को मनी लॉड्रिंग के मामले में सम्मन भी भेजा था. Also Read - Bharat Bandh Today: सड़कें जाम-ट्रेनें रद, कुंडली बॉर्डर पर पंजाब के एक किसान की हो गई मौत, LIve Updates

बता दें कि पंजाब में रेत की खदानों की कुछ महीने पहले नीलामी हुई थी. इस दौरान राणा गुरजीत पर गलत ढंग से अपनी कंपनियों को फायदा पहुंचाने का आरोप लगा था. इसके बाद से ही पंजाब में नेता विपक्ष और आम आदमी पार्टी के सीनियर लीडर सुखपाल खैरा लगातार राणा गुरजीत पर और कैप्टन सरकार पर हमलावर थे. Also Read - Bharat Bandh: किसानों का ‘भारत बंद’ सोमवार को, कांग्रेस ने अपने कार्यकर्ताओं-नेताओं से की ये अपील