नई दिल्ली: पंजाब में 17 दिसंबर को तीन नगर निगमों, 32 नगर परिषदों और नगर पंचायतों के चुनाव होने के बाद अब परिणान आने शुरू हो गए हैं. जालंधर नगर निगम में कुल 80 वार्ड्स हैं और सभी के नतीजे भी आ गए हैं. कांग्रेस को 66, अकाली दल को 4, बीजेपी को 8 और निर्दलीय उम्मीदवारों को 2 सीटें मिलीं हैं. पंजाब के निकाय चुनावों का मतदान 17 दिसंबर को सुबह 8 बजे से शाम 4 बजे तक के बीच हुआ. मतदान समाप्त होने के बाद ही वोटों की गिनती भी आज की जा रही है.

जालंधर के 80 वार्डों में से 51 सीटों पर बीजेपी जबकि 29 पर शिरोमणि अकाली दल चुनाव लड़ रही है. कांग्रेस के मार्च में राज्य में सत्ता संभालने के नौ महीने बाद ही ये चुनाव हुए थे. पंजाब बीजेपी अध्यक्ष विजय सांपला ने कहा कि कांग्रेस ने धक्केशाही के साथ जीत दर्ज की. चुनाव आयोग ने भी भूमिका ढंग से नहीं निभाई.

शिरोमणि अकाली दल और भारतीय जनता पार्टी अमृतसर नगर निगम चुनावों में  गठबंधन के तहत चुनाव लड़ रही थी.  पंजाब में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद ये मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की बड़ी जीत मानी जाएगी.

कांग्रेस के मार्च में राज्य में सत्ता संभालने के नौ महीने बाद ही ये चुनाव हो रहे हैं. पंजाब के इस बार के निकाय चुनाव कांग्रेस, आम आदमी पार्टी और शिरोमणि अकाली दल-भारतीय जनता पार्टी के बीच कड़ी टक्कर देखी जा रही थी लेकिन नतीजों ने कांग्रेस के पक्ष में जनता का रुझान सामने ला दिया.

बीजेपी इन वार्डों पर लड़ी है चुनाव

वार्ड नंबर 2, 3, 7, 9, 14 से 20, 22, 24, 32, 33, 34, 37 से 43 , 46, 48 से 50, 52 से 58, 60, 61, 63 से 71, 75 से 78 एवं 80 कुल 51 वार्डों में बीजेपी चुनाव लड़ रही है.

अकाली दल इन वार्डों पर लड़ेगी चुनाव

शिरोमणि अकाली दल वार्ड नंबर 1, 4 से 6, 8, 10 से 13, 21, 23, 25 से 31, 35, 36, 44, 45, 47, 51, 59, 62, 72, 74, 79 अर्थात 29 वार्ड में चुनाव लड़ रही है.

पहली बार नोटा का इस्तेमाल

इस बार पंजाब में पहली बार मतदाता को निगम चुनाव में नोटा का भी अधिकार था. चुनाव इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन से कराए गए.