रायपुर: छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव के बहिष्कार के लिए नक्सलियों की धमकी के बीच, राज्य में मतदान के पहले चरण के तहत 18 सीटों पर दोपहर बाद दो बजे तक लगभग 38 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का उपयोग किया था. ताजा खबरों के मुताबिक, दोपहर तीन बजे तक 47.18 फीसदी वोटिंग हुई है. सुकमा जिले के जिले के पालाम अडगु गांव में 15 वर्ष बाद लोगों ने मतदान किया.Also Read - Assam Assembly Elections 2021 Phase 2 Voting Live: असम में साढ़े तीन बजे तक हुआ 63.03% मतदान, जारी है वोटिंग प्रक्रिया

Also Read - West Bengal Election 2021: पश्चिम बंगाल छिटपुट हिंसक घटनाओं के बीच सुबह 11 बजे तक 24.61 फीसदी वोटिंग

राज्य के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय के अधिकारियों ने सोमवार को बताया कि पहले चरण के तहत 10 विधानसभा सीटों पर सोमवार सुबह सात बजे मतदान शुरू हुआ. वहीं, आठ सीटों पर एक घंटे बाद, आठ बजे मतदान प्रारंभ हुआ. उन्होंने बताया कि दोपहर बाद दो बजे तक लगभग 38 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का उपयोग किया. तीन बजे तक 47.18 फीसदी वोटिंग हुई है. Also Read - J&K DDC Voting News: जम्मू-कश्मीर में कड़ाके की ठंड के बीच 8वें और अंतिम चरण की वोटिंग जारी

राज्य के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने बताया कि दंतेवाड़ा जिले में नक्सलियों ने बारूदी सुरंग में विस्फोट कर सुरक्षा बलों को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की है.अधिकारियों ने बताया कि जिले के तुमाकपाल-नयानार मार्ग पर नक्सलियों ने विस्फोट किया था. इस घटना में किसी के भी हताहत होने की सूचना नहीं है. मतदान दल सुरक्षित मतदान केंद्र तक पहुंच गया था.

राज्य के सुकमा जिले के एसपी अभिषेक मीणा ने बताया कि क्षेत्र में नक्सलियों के विरोध के बाद भी ग्रामीण मतदान करने निकल रहे हैं. मीणा ने बताया कि जिले के पालाम अडगु गांव में 15 वर्ष बाद पहली बार मतदान किया गया है. अभी तक 44 लोगों ने मतदान किया है.

एसपी मीणा ने बताया कि कोंटा विधानसभा क्षेत्र के सेंदुरगुड़ा में वर्ष 2013 के विधानसभा चुनाव में केवल पांच मतदाताओं ने अपने मताधिकार का उपयोग किया था. वहीं इस बार 315 मतदाताओं ने मताधिकार का उपयोग किया है. जिले के मुकरम मतदान केंद्र में पिछले वर्ष मतदान नहीं हुआ था. इस बार 156 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का उपयोग किया है.

मीणा ने बताया कि वर्ष 2013 में ‘भेज्जी दो’ और गोरखा मतदान केंद्र में कोई मतदान नहीं हुआ था. लेकिन इस बार इन मतदान केंद्रों में मतदान हुआ है.

वहीं ‘भेज्जी एक’ मतदान केंद्र में पिछली बार केवल एक मतदाता ने वोट डाला था, लेकिन इस बार मतदाता यहां भी मतदान कर रहे हैं.

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय के अधिकारियों ने बताया कि प्रथम चरण में हो रहे मतदान के दौरान 31 ईवीएम और 51 वीपीपैट मशीनों के तकनीकी कारणों से काम नहीं करने शिकायत पर तत्काल कार्रवाई की गई. इन ईवीएम और वीवीपैट मशीनों को बदल दिया गया है.

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय के अधिकारियों ने बताया कि राज्य के दक्षिण क्षेत्र बस्तर के सात जिले और राजनांदगांव जिले के 18 विधानसभा सीट के लिए कुल 190 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं जिनकी किस्मत का फैसला यहां के 31,80,014 मतदाता करेंगे. इनमें से पुरूष मतदाताओं की संख्या 15,57,435 तथा महिला मतदातओं की संख्या 16,22,492 है. वहीं 87 मतदाता तृतीय लिंग के हैं.

अधिकारियों ने बताया कि प्रथम चरण में कुल मतदान केंद्रों की संख्या 4336 है. जिन 18 सीटों पर आज मतदान हो रहा है उनमें से 12 सीट बस्तर क्षेत्र में और छह सीट राजनांदगांव जिले में है. उन्होंने बताया कि राज्य के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में मतदान होने के कारण सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं तथा सुरक्षा बल के लगभग सवा लाख जवानों को तैनात किया गया है.