हैदराबाद: छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले में मुठभेड़ में मारे गए 10 नक्सलियों में एक वरिष्ठ माओवादी नेता पर पांच लाख रूपये का इनाम घोषित था. नक्सल रोधी बल ‘ग्रेहाउंड’ ने कल छत्तीसगढ़ पुलिस के साथ एक संयुक्त अभियान में बीजापुर जिले के पुजारी कांकेड़ के पास माओवादियों के एक शिविर पर धावा बोला था. तड़के चलाए गए अभियान में दस माओवादी मारे गए थे जिनमें सात महिलाएं शामिल हैं. अभियान के दौरान ‘ग्रेहाउंड’ के एक कर्मी की भी मौत हो गयी थी. रिवोल्युशनरी राइटर्स एसोसिएशन के सदस्य वारवारा राव ने मुठभेड़ पर संदेह प्रकट किया और दावा किया कि यह फर्जी है. Also Read - उत्तरी कश्मीर में मुठभेड़ में पांच आतंकी ढेर, पांच भारतीय जवान भी हुए शहीद

राव ने मांग की कि मारे गये माआवोदियों के शवों का मुठभेड़ स्थल पर फोटो खींचा जाए तथा उन्हें फोरेंसिक विशेषज्ञों द्वारा जांच पोस्टमार्टम के लिए वारंगल या हैदराबाद ले जाया जाए. तेलंगाना पुलिस के एक शीर्ष अधिकारी ने बताया कि शुक्रवार को मुठभेड़ में मारे गए नक्सलियों में प्रतिबंधित भाकपा (माओवादी) का डिविजनल कमेटी स्तरीय सदस्य दादाबोइना स्वामी उर्फ प्रभाकर भी था. अधिकारी ने बताया कि वह (प्रभाकर) डिविजनल कमेटी का सदस्य था और (तेलंगाना में) वारंगल जिले का निवासी था. उस पर पांच लाख रूपये का इनाम घोषित था. Also Read - जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों और आतंकियों में मुठभेड़, 9 आतंकी ढेर, एक जवान शहीद

इससे पहले, तेलंगाना के भद्राद्री कोठगुडेम जिले के पुलिस अधीक्षक अंबर किशोर झा ने बताया कि कल हवाई मार्ग से दो नक्सलियों और ग्रेहाउंड के जूनियर कमांडो के शव लाए गए थे. दूरदराज की जगह होने के कारण बाकी शव आज सुबह एक हेलीकॉप्टर से अस्पताल लाए गए. अधिकारी ने बताया कि ग्रेहाउंड के जूनियर कमांडो सुशील कुमार की भी मौत हो गयी. Also Read - Jammu and Kashmir: कुलगाम में सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़, तीन आतंकी हुए ढेर

छत्तीसगढ़ पुलिस ने कल मारे गए दो नक्सलियों की पहचान डिप्टी कमांडर संजीव और महिला पेड्डा बुदरी के तौर पर की थी. हालांकि, एक वरिष्ठ अधिकारी ने आज साफ किया कि मारे गए नक्सलियों में संजीव नहीं था.

मारे गए नक्सलियों की पहचान इत्थू, बुदरी, रामे, मलेश, कमला, कोसी, सुक्की, रत्ना और सोंबी के तौर पर हुयी. इनमें से अधिकतर (सशस्त्र इकाई) डलाम के सदस्य थे. उन्होंने बताया कि मारे गए अधिकतर नक्सली छत्तीसगढ़ के रहने वाले थे. इससे पहले पुलिस ने बताया था कि मारे गए नक्सलियों में छह महिलाएं थी.

झा ने कहा, चूंकि सभी सदस्य अपनी वर्दी में थे इसलिए हम महिला और पुरूष के बीच फर्क नहीं कर पाए. आज पंचनामा के दौरान पता चला कि उनमें सात महिलाएं थी.

(एजेंसी इनपुट के साथ)