रायपुर. मध्य प्रदेश के बाद छत्तीसगढ़ की नव निर्वाचित कांग्रेस सरकार ने भी शपथ लेने के कुछ घंटों के अंदर ही सोमवार को किसानों का कर्ज माफ करने का एलान कर दिया. मुख्यमंत्री भूपेश बेघल ने टीएन सिंह देव और ताम्रध्वज साहू के साथ यहां मंत्रालय में पहली कैबिनेट बैठक की. बघेल ने यहां पत्रकारों को बताया कि 30 नवंबर 2018 की स्थिति के अनुसार सहकारी बैंक व छत्तीसगढ़ ग्रामीण बैंक में कृषकों के अल्पकालीन ऋण को माफ कर दिया गया. इससे 16 लाख 65 हजार से ज्यादा किसानों का 61 सौ करोड़ रुपए से अधिक का कर्ज माफ होगा. बता दें कि बीते विधानसभा चुनावों के दौरान कांग्रेस ने वादा किया था कि पार्टी की सरकार बनते ही 10 दिनों के भीतर किसानों का कर्जा माफ कर दिया जाएगा. रविवार को मध्यप्रदेश के इस मामले में कदम उठाने के बाद छत्तीसगढ़ में भी कर्ज माफी की बात हो रही थी. देर शाम सीएम भूपेश बघेल ने इसकी घोषणा कर दी.Also Read - छत्तीसगढ़ः भूपेश बघेल सरकार ने लिया फैसला, आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग को मिलेगा 10 फीसदी आरक्षण

Also Read - आदिवासियों के विरोध के आगे झुकी सरकार, बैलाडीला पहाड़ी में खनन पर लगी रोक

CM की कुर्सी संभालते ही कमलनाथ ने किसानों की कर्ज माफी आदेश पर किए हस्ताक्षर, लेकिन ये है सीमा Also Read - छत्तीसगढ़ : नए सीएम की घोषणा अभी नहीं हुई, लेकिन किसानों की कर्ज माफी की तैयारियां शुरू

उन्होंने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने वायदा किया था कि सरकार बनने के 10 दिन के अंदर किसानों के कर्ज को माफ किया जाएगा. मुख्यमंत्री ने कहा कि मंत्रिपरिषद की बैठक में यह निर्णय किया गया कि अधिसूचित वाणिज्यक बैंकों के अल्पकालीन कृषि ऋण के परीक्षण के बाद कृषि कर्ज को माफ करने की कार्रवाई की जाएगी. उन्होंने कहा कि हमारा मानना है कि कर्ज माफी किसानों के आर्थिक तथा सामाजिक उन्नयन तथा सशक्तीकरण में मददगार होगी. बघेल ने कहा कि राहुल गांधी के वायदे के मुताबिक, सरकार ने शपथ लेने के बाद धान की खरीदी दर 2500 रुपए प्रति क्विंटल करने का भी निर्णय किया है.

प्रदेश के नए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने यह भी कहा कि झीरम घाटी घटना की एसआईटी से जांच कराई जाएगी. गौरतलब है कि 26 मई 2013 को झीरम घाटी में नक्सलियों ने कांग्रेस नेताओं के काफिले पर हमला कर दिया था, जिनमें पार्टी के वरिष्ठ नेता विद्याचरण शुक्ल, तत्कालीन प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नंदकुमार पटेल, महेंद्र कर्मा, उदय मुदलियार, दिनेश पटेल समेत कई लोगों की मौत हो गई थी. आपको बता दें कि छत्तीसगढ़ से पहले मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी किसानों की कर्ज माफी का एलान किया है. भोपाल के जंबूरी मैदान में शपथ लेने के कुछ ही घंटे बाद कमलनाथ ने चुनावी वायदे के तहत किसानों के दो लाख रुपए तक कर्ज माफ करने की फाइल पर हस्ताक्षर किए.

(इनपुट -एजेंसी)