रायपुर. आगामी 11 दिसंबर को छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के लिए डाले गए मतों की गिनती की जाएगी. कांग्रेस, भाजपा या अजीत जोगी की पार्टी, परिणाम जिसके पक्ष में भी आए, उस दल के कार्यकर्ता जश्न मनाएंगे. लेकिन इन पार्टियों के कार्यकर्ताओं के लिए एक बुरी खबर है. इस बार अपनी पार्टी की जीत के बाद वे पटाखे फोड़कर जश्न नहीं मना सकेंगे, क्योंकि राज्य में 31 जनवरी 2019 तक पटाखे जलाने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है. दरअसर, ठंड में वायु प्रदूषण के निर्धारित मापदंडों को बनाए रखने के लिए पिछले वर्ष लिए गए निर्णय के तहत छत्तीसगढ़ के 6 बड़े शहरों में 31 जनवरी तक पटाखे फोड़ने पर प्रतिबंध लगाया गया है. इस संबंध में आदेश छत्तीसगढ़ पर्यावरण संरक्षण मंडल, अटल नगर, रायपुर की ओर से जारी किया गया है. क्रिसमस व नववर्ष पर रात 11:55 से 12:30 बजे तक पटाखे फोड़े जाने की अनुमति भी लागू रहेगी.

पटाखे जलाने से होने वाले वायु प्रदूषण को कम करने के लिए पर्यावरण विभाग की ओर से प्रदेश के 6 प्रमुख शहरों- रायपुर, बिलासपुर, भिलाई, दुर्ग, रायगढ़ और कोरबा में प्रतिबंध जारी रहेगा. विदित हो कि संपूर्ण छत्तीसगढ़, वायु प्रदूषण अधिनियम, 1981 के अंतर्गत वायु प्रदूषण नियंत्रण क्षेत्र घोषित है. इसी के तहत पिछले वर्ष पर्यावरण विभाग की ओर से वायु (प्रदूषण निवारण और नियंत्रण) अधिनियम, 1981 की धारा 19(5) में प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए यह निर्णय लिया गया था. रिट पिटीशन (सिविल) क्रमांक 728/2015 अर्जुन गोपाल विरुद्ध यूनियन ऑफ इंडिया में पटाखों के उपयोग के संबंध में उच्चतम न्यायालय की ओर से महत्वपूर्ण दिशा निर्देश जारी किए गए हैं, जिसमें क्रिसमस व नववर्ष पर 35 मिनट तक पटाखे फोड़े जाने की अनुमति दी गई है.

(इनपुट – एजेंसी)