Chhattisgarh News: छत्तीसगढ़ में पिछले तीन साल में हाथियों के हमले में 204 लोगों की मौत हुई है. राज्य में इस दौरान 45 हाथियों की भी जान गई है. जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के विधायक धर्मजीत सिंह के एक सवाल के लिखित जवाब में राज्य के वन मंत्री मोहम्मद अकबर ने बताया कि साल 2018, 2019 और 2020 में हाथियों के हमलों में 204 लोगों की मौत हुई है तथा 97 लोग घायल हुए हैं.Also Read - बिलासपुर-इंदौर हवाई सेवा शुरू हुई, हफ्ते में 4 दिन मिलेंगी फ्लाइट्स, देखें टाइमिंग

अकबर ने बताया कि इस अवधि के दौरान हाथियों से फसलों को नुकसान पहुंचने के 66,582 मामले, घरों को नुकसान पहुंचने के 5047 मामले और अन्य संपत्तियों को नुकसान पहुंचने के 3151 मामले दर्ज किए गए हैं. वन मंत्री ने अपने जवाब में बताया है कि इस अवधि में हाथियों के हमले में लोगों की मौत, घायल होने तथा फसलों, घरों और अन्य संपत्तियों को नुकसान पहुंचने के कुल 75,081 मामले दर्ज हुए हैं. इन तीन वर्षों में लोगों को 57,81,63,655 रुपए का मुआवजा दिया गया है. Also Read - छत्तीसगढ़ के दुर्ग में एक ही परिवार के 4 लोगों की हत्या, मौके से कुल्हाड़ी बरामद

वन मंत्री के अनुसार छत्तीसगढ़ के उत्तर क्षेत्र के सरगुजा, जशपुर, सूरजपुर, रायगढ़ और कोरबा जिलों में मानव और हाथियों के बीच संघर्ष में ज्यादातर लोगों की जान गई है. वन मंत्री ने बताया कि तीन वर्षों के दौरान राज्य में 45 हाथियों की मृत्यु की जानकारी मिली है. इनमें से वर्ष 2018 में 16 हाथियों की, वर्ष 2019 में 11 हाथियों की तथा वर्ष 2020 में 18 हाथियों की मृत्यु हुई है. Also Read - अब IRCTC से निखरेगा छत्तीसगढ़ का टूरिज्म, नक्सलियों का भी नहीं रहेगा भय!

(इनपुट: भाषा)