जगदलपुर :  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के लिए अपनी पहली रैली में कांग्रेस पर तीखे हमले करते हुए कहा कि वह ऐसे अर्बन नक्सलियों का समर्थन करती है, जिन्होंने गरीब आदिवासी युवाओं का जीवन बर्बाद कर दिया है. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘जो शहरी माओवादी हैं, वे शहरों में एसी घरों में रहते हैं और उनके बच्चे विदेशों में पढ़ते हैं. ऐसे लोग नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में ‘रिमोट कंट्रोल’ से आदिवासी बच्चों का जीवन तबाह कर रहे हैं. ‘ मोदी ने कहा, ‘मैं कांग्रेस से पूछना चाहता हूं कि जब सरकार शहरी नक्सलियों के खिलाफ कार्रवाई करती है तो वह उन नक्सलियों का समर्थन क्यों करती है?’

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘क्या आप ऐसे लोगों को माफ करेंगे? ये लोग छत्तीसगढ़ नहीं जीत पाएंगे. मैं आपसे यह सुनिश्चित करने की अपील करता हूं कि बस्तर क्षेत्र में भाजपा सभी सीटों पर विजयी हो. यदि कोई और जीतता है तो यह बस्तर के सपनों पर एक धब्बा होगा.’

छत्तीसगढ़ चुनाव: न हथियार न बारूद, नक्सलियों और चुनाव आयोग के बीच चल रही है ‘लड़ाई’

पीएम मोदी ने कहा कि कांग्रेस आदिवासियों का ‘मखौल’ उड़ाती है. उन्होंने कहा, मैं नहीं जानता कि कांग्रेस क्यों आदिवासियों का उपहास उड़ाती है. एक बार मैं उत्तर-पूर्व भारत में रैली में गया था और परंपरागत आदिवासी मुकुट पहना, लेकिन कांग्रेस के नेताओं ने इसका मजाक उड़ाया. उन्होंने कहा कि वह तब तक चैन से नहीं बैठेंगे जब तक वह समृद्ध छत्तीसगढ़ के लिए दिवंगत अटल बिहारी वाजपेयी के सपनों को पूरा नहीं कर देते.

सीएम रमण सिंह के गढ़ में अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर टिकट मांग रही हैं भाजपा और कांग्रेस

उन्होंने कहा कि जितनी बार वह बस्तर आए हैं, उतनी बार कोई प्रधानमंत्री नहीं आया. उन्होंने कहा, हम इलाके से बेरोजगारी, गरीबी भूख को मिटाने की कोशिश कर रहे हैं. मोदी ने कहा कि वह छत्तीसगढ़ के लोगों की सेवा करना और अटल बिहारी वाजपेयी के समृद्ध राज्य के स्वप्न को साकार करना चाहते हैं. उन्होंने कहा, उनका सपना पूरा किए बिना मैं चैन से नहीं बैठूंगा. छत्तीसगढ़ अब 18 बरस का हो गया है. वे सपने और महत्त्वाकांक्षाएं अब 18 साल की हो चुकी हैं. उन्होंने कहा कि कांग्रेस दलितों, वंचित समूहों और आदिवासियों के बारे में बात तो करती है, लेकिन वह उन्हें सिर्फ वोट बैंक समझती है, न कि इंसान. गौरतलब है कि 90 सदस्यों वाली छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के लिए 12 और 20 नवंबर को वोट डाले जाएंगे. (इनपुट एजेंसी से)