रायपुर: पांच राज्यों में हो रहे विधानसभा चुनावों के लिए कांग्रेस और भाजपा के शीर्ष नेता शहरों-गांवों की खाक छानने में लगे हैं. लेकिन सत्ता तक पहुंचने की यह लड़ाई चुनावी क्षेत्रों से दूर कहीं और भी लड़ी जा रही है. खास बात यह है कि सोशल मीडिया पर चल रही इस लड़ाई में कांग्रेस अब भाजपा से पीछे नहीं है. कई महत्वपूर्ण मौकों पर तो अब कांग्रेस की सोशल मीडिया टीम भाजपा को पीछे भी छोड़ रही है. इसका एक उदाहरण शुक्रवार को छत्तीसगढ़ में देखने को मिला जहां शुक्रवार को पीएम नरेंद्र मोदी पहुंचे थे.

छत्तीसगढ़ में दूसरे दौर के मतदान से पहले शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सरगुजा जिले में जनसभा को संबोधित किया. अंबिकापुर में रैली के दौरान अपने भाषण में मोदी जब भाजपा की उपलब्धियां गिना रहे थे, उसी समय कांग्रेस ने जवाब में हैशटैग के जरिये ट्विटर पर साल 2013 के मोदी के भाषणों का वीडियो डालकर भाजपा के हमले का जवाब दिया.

छत्तीसगढ़: यूपी के सीएम योगी ने कहा- समाज को बांट रही कांग्रेस, भ्रष्टाचार को भी बढ़ावा दिया

मोदी की रैली के दौरान भाजपा की सोशल मीडिया टीम ने भी हैशटैग के जरिये ट्विटर पर जमकर कमेंट किए. इस पूरे घटनाक्रम में ‘ट्विस्ट’ तब आया, जब कांग्रेस के हैशटैग ने भाजपा के हैशटैग को ट्विटर पर पीछे छोड़ दिया और शीर्ष पर जगह बना ली, जबकि डिजिटल सक्रियता के लिए भाजपा जानी जाती है.

छत्‍तीसगढ़ में पीएम मोदी पर बरसे राहुल, कहा प्रधानमंत्री नहीं जानते देश को एक व्‍यक्ति नहीं, जनता चलाती है

इससे पहले भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के छत्तीसगढ़ दौरे के समय भी कांग्रेस का ‘जीतबो छत्तीसगढ़’ अभियान सोशल मीडिया पर अगुवाई करता नजर आया था. कांग्रेस के एक नेता ने कहा, “बदलते समय में सोशल मीडिया के इस्तेमाल का स्वरूप बदला है. खासकर चुनावों में सोशल मीडिया ‘राजनीतिक अखाड़े’ का काम कर रहा है. यहां तक कि चुनावों के नतीजे आने से पहले ही सोशल मीडिया के रुझान पार्टियों की हार और जीत का फैसला कर रहे हैं. पिछले दिनों चले कांग्रेस के अभियानों को सोशल मीडिया पर मिल रहे ‘रिस्पॉन्स’ से कांग्रेस की डिजिटल रणनीति कामयाब होती दिख रही है.”