रायपुर: छत्तीसगढ़ में कांग्रेस के पक्ष में भारी रुझान के बाद मुख्यमंत्री रमन सिंह ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. सिंह ने कांग्रेस को जीत के लिए बधाई दी है. सिंह ने संवाददाताओं को बताया कि उन्होंने राज्यपाल को अपना इस्तीफा भेज दिया है. Also Read - यूपी के मंत्री ने कहा- कांग्रेस ने भ्रम फैलाकर पाया वोट, पछता रहे हैं मध्यप्रदेश के लोग

Also Read - एमएनएफ के प्रमुख जोरमथंगा ने ली मिजोरम के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ

रमन सिंह ने कहा कि वर्ष 2018 का जनदेश आ चुका है. इस जनादेश के लिए छत्तीसगढ़ की जनता को, सभी अधिकारी, कर्मचारी और समाज के सभी वर्ग के लोगों को मैं धन्यवाद दूंगा कि शानदार मतदान में उन्होंने हिस्सा लिया. शांतिपूवर्क पूरी चुनाव की प्रक्रिया समाप्त हुई. Also Read - सवाल- केंद्र की राजनीति में जाने वाले हैं? 15 साल मुख्यमंत्री रहे रमन सिंह का जवाब- 'यहीं हूं मैं'

उन्होंने कहा कि राज्य की जनता ने जो जनादेश दिया है, उसका हम सब सम्मान करते हैं. जनता जनार्दन ने कांग्रेस के पक्ष में समर्थन दिया. उसके लिए कांग्रेस को बधाई देता हूं और जनता से किए गए वादों को निभाने के लिए कांग्रेस पार्टी को अपनी ओर से शुभकामनाएं देता हूं. जो वादा उन्होंने किया है, उसे निभाएं.

सिंह ने कहा कि छत्तीसगढ़ की जनता ने भारतीय जनता पार्टी को लगातार 15 वर्ष तक अवसर दिया और मुझे 15 साल तक छत्तीसगढ़ की सेवा करने का अवसर मिला. इसको मैं अपना सौभाग्य मानता हूं. इसके लिए राज्य की ढाई करोड़ जनता को धन्यवाद देना चाहता हूं. जो सबसे अच्छा हो सकता था उसको करने का काम हमने किया और छत्तीसगढ़ के आम आदमी के जीवन में जो परिवर्तन किया जा सकता है, उन नीतियों को क्रियान्वित करने का अवसर मिला.

बस्तर से लेकर राजनांदगाव-अबिंकापुर तक, छत्तीसगढ़ की इन हॉट सीटों पर रहेगी सबकी नजर

रमन सिंह ने कहा कि यह चुनाव मेरे नेतृत्व में लड़ा गया था. इसलिए इस हार की नैतिक जवाबदारी मैं स्वयं लेता हूं. उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ की जनता के साथ मिलकर हम सशक्त विपक्ष की भूमिका निभाएंगे. 15 साल हमने काम किया, अब नई भूमिका में उतनी ही प्रखरता और मजबूती के साथ छत्तीसगढ़ की जनता की सेवा करेंगे.

Chhattisgarh Elections Results 2018, Live: छत्तीसगढ़ में रुझानों में कांग्रेस को दो तिहाई बहुमत, 69 सीटों पर आगे, बीजेपी पीछे छूटी

सिंह ने कहा कि छत्तीसगढ़ की जनता का जितना प्रेम और समर्थन मिला, मैं जीवन भर काम करता रहूंगा तब भी मैं उस ऋण को नहीं चुका पाउंगा. रमन सिंह ने कहा कि पार्टी हार की समीक्षा करेगी. यह राज्य सरकार का चुनाव था. उसकी नीतियों और कार्यक्रम के आधार पर चुनाव लड़ा गया. यह दिल्ली का चुनाव नहीं था, वह चुनाव 2019 में होगा. लोकसभा चुनाव में इस चुनाव का असर नहीं पड़ेगा. छत्तीसगढ़ में 90 सदस्यीय विधानसभा के लिए 12 और 20 नवंबर को मतदान हुआ था. मंगलवार को वोटों की गिनती में कांग्रेस बड़ी जीत की ओर अग्रसर है.