नई दिल्ली. छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव का परिणाम आने के तीन दिन बाद भी कांग्रेस पार्टी में राज्य के मुख्यमंत्री का नाम चुनने की जद्दोजहद जारी है. यही वजह है कि बैठकों के कई दौर के बाद भी अभी तक छत्तीसगढ़ के सीएम पद के किसी दावेदार का चयन नहीं हो पाया है. हालांकि शनिवार की शाम छत्तीसगढ़ कांग्रेस के प्रभारी पीएल पूनिया ने मीडिया के साथ बातचीत में कहा कि रविवार की दोपहर 12 बजे मीटिंग के बाद प्रदेश के मुख्यमंत्री का नाम तय हो जाएगा. पूनिया ने कहा कि राज्यपाल ने 17 दिसंबर को शपथ ग्रहण की तारीख निर्धारित की है. छत्तीसगढ़ का सीएम कौन बनेगा, इसका फैसला रविवार को होने वाली बैठक में तय होगा. बता दें कि छत्तीसगढ़ विधानसभा के चुनाव में भाजपा को हराकर कांग्रेस ने दो तिहाई बहुमत हासिल किया है.

सवाल- केंद्र की राजनीति में जाने वाले हैं? 15 साल मुख्यमंत्री रहे रमन सिंह का जवाब- ‘यहीं हूं मैं’

पीएल पूनिया ने मुख्यमंत्री का नाम बताने को लेकर जल्दबाजी न करने की भी बात कही. मीडिया के साथ बातचीत में पूनिया ने कहा, ‘रविवार को दोपहर 12 बजे कांग्रेस की बैठक होगी, जिसके बाद हम आपको छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री पद के दावेदार का नाम बता देंगे. राज्यपाल ने शपथ ग्रहण के लिए 17 दिसंबर को शाम 4.30 बजे का समय निर्धारित किया है. इसलिए जल्दबाजी क्या है?’ आपको बता दें कि मध्यप्रदेश और राजस्थान में मुख्यमंत्री पद के दावेदारों के चयन को लेकर भी बैठकों के कई दौर चले. तब जाकर दोनों प्रदेशों के सीएम का नाम तय हो पाया. छत्तीसगढ़ में भी इस पद के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी प्रदेश के वरिष्ठ नेताओं के साथ लगातार बैठकें कर रहे हैं. लेकिन अभी तक मुख्यमंत्री पद के दावेदार की तस्वीर साफ नहीं हो सकी है.

छत्तीसगढ़ में कांग्रेस पार्टी को 15 साल बाद सत्ता हासिल हुई है. प्रचंड बहुमत के साथ शासन में आने वाली पार्टी, संभवतः इसीलिए सीएम पद के नाम चयन में समय लगा रही है. वैसे सूत्रों के अनुसार छत्तीसगढ़ में पार्टी की ओर से सीएम पद के मुख्यतः चार दावेदार हैं- टीएस सिंहदेव, ताम्रध्वज साहू, प्रदेश इकाई के अध्यक्ष भूपेश बघेल और चरणदास महंत. पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष इन चारों नेताओं के साथ बैठकें कर रहे हैं, ताकि किसी एक नाम पर सबकी सहमति बन जाए. छत्तीसगढ़ का सीएम चुनने के लिए हो रही कांग्रेस पार्टी की इन बैठकों में राहुल गांधी के अलावा सोनिया गांधी, प्रियंका गांधी, लोकसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे और प्रदेश प्रभारी पीएल पूनिया भी लगातार मौजूद रहे हैं. बावजूद इसके सीएम के चुनाव में देरी हो रही है.

मप्र में कमलनाथ चलाएंगे दागी और करोड़पतियों की सरकार! कांग्रेस के आधे से ज्यादा विधायकों के खिलाफ आपराधिक मामले

कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रदेश का सीएम कैंडीडेट चुनने के लिए छत्तीसगढ़ के चारों वरिष्ठ नेताओं को दिल्ली बुला रखा है. हालांकि यह बात अभी तक तय नहीं हो पाई है कि छत्तीसगढ़ के सीएम के नाम का एलान दिल्ली में किया जाएगा या रायपुर में इसकी घोषणा होगी. इस बीच प्रदेश कांग्रेस प्रभारी पीएल पूनिया के आए बयान से एक बात तो साफ हो गई है कि शनिवार को इस मसले पर छाया ‘धुंध’ नहीं हटेगा. अब रविवार की दोपहर ही छत्तीसगढ़ के लोगों को पता चल पाएगा कि उनके राज्य का अगला सीएम कौन होने वाला है.