रायपुर: छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित कांकेर जिले में सुरक्षा बलों ने मुठभेड़ में एक महिला माओवादी समेत चार माओवादियों को मार गिराया है. वहीं इस घटना में सशस्त्र सीमा बल का जवान घायल हो गया है. बस्तर क्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक सुंदरराज पी ने सोमवार को बताया कि कांकेर जिले के ताड़ोकी थाना क्षेत्र के अंतर्गत कोसरंडा गांव के करीब सुरक्षा बलों ने मुठभेड़ में एक महिला माओवादी समेत चार माओवादियों को मार गिराया है. Also Read - CBI ने छत्तीसगढ़ का सेक्स सीडी केस को दिल्ली ट्रांसफर करने की मांग की, CM भूपेश बघेल हैं आरोपी

सुंदरराज ने बताया कि कोसरंडा गांव स्थित सशस्त्र सीमा बल :एसएसबी: के 33वीं बटालियन के शिविर से एसएसबी और जिला बल के संयुक्त दल को गश्त पर रवाना किया गया था. आज सुबह करीब आठ बजे दल जब क्षेत्र में था तब माओवादियों ने सुरक्षा बलों पर गोलीबारी शुरू कर दी. Also Read - छत्‍तीसगढ़ में नक्‍सल IED Blast में घायल दो CAF जवान, बेहतर इलाज के ल‍िए लाए गए रायपुर

पुलिस अधिकारी ने बताया कि माओवादियों के हमले का सुरक्षा बलों ने भी जवाब दिया. कुछ देर तक मुठभेड़ के बाद माओवादी वहां से फरार हो गए. उन्होंने बताया कि बाद में जब सुरक्षा बलों ने घटनास्थल की तलाशी ली तब वहां से एक महिला माओवादी समेत चार माओवादियों के शव तथा एसएलआर बंदूक समेत तीन हथियार बरामद किए गए. Also Read - VIRAL: युवक को दो लड़कियों से हुआ प्यार, पहले मनाया फिर एक ही मंडप में कर ली शादी

माओवादियों के पास से बरामद इस हथियार को देखने के बाद हर कोई हैरान है. सूत्रों के मुताबिक पुलिस ने इस बात से इनकार किया है कि उनके पास से इस तरह का कोई हथियार नक्सलियों द्वारा नहीं चुराया गया है. ऐसे में ये हैरान करने वाली बात है कि नक्सलियों के पास से इतना एडवांस हथियार कैसे पहुंचा..!

Image

बिलासपुर के आईजी पुलिस दिपांशू काबरा ने ट्वीट कर लिखा, “कांकेर में नक्सलियों के खिलाफ सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी मिली. तरोकी क्षेत्र में हुई मुठभेड़ में पुलिस ने 4 वर्दीधारी नक्सलियों को ढेर किया एवं हथियार बरामद किए. ऑपरेशन में शामिल सभी जवानों को ढेरों बधाई व शुभकामनाएं. ये कार्यवाही हिंसक माओवादी विचारधारा को एक कड़ी चेतावनी है.”

सुंदरराज ने बताया कि मुठभेड़ के दौरान एसएसबी का प्रधान आरक्षक अमन घायल हो गया है. उसे हल्की चोटें आई है. घायल जवान को अंतागढ़ के अस्पताल में भर्ती कराया गया है. उन्होंने बताया कि मुठभेड़ में मारे गए माओवादियों की पहचान नहीं हो पाई है. क्षेत्र में माओवादियों के खिलाफ अभियान जारी है.

(इनपुट भाषा)