गाजियाबाद: बीबीसी और अमर उजाला में वरिष्ठ पदों पर रह चुके पत्रकार विनोद वर्मा को कथित उगाही के आरोप में छत्तीसगढ पुलिस ने देर रात उनके आवास से गिरफ्तार कर लिया. वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एच एन सिंह ने बताया कि विनोद वर्मा को इंदिरापुरम के वैभव खंड स्थित महागुन मेंशन अपार्टमेंट से गुरूवार को रात करीब साढ़े तीन बजे छत्तीसगढ़ पुलिस ने गाजियाबाद पुलिस की मदद से गिरफ्तार किया. 

गौरी लंकेश की हत्या पर अमेरिका की टिप्पणी, बताया 'त्रासदीपूर्ण'

गौरी लंकेश की हत्या पर अमेरिका की टिप्पणी, बताया 'त्रासदीपूर्ण'

सिंह ने बताया कि छत्तीसगढ़ के रायपुर जिले के पंदारी पुलिस स्टेशन में पत्रकार के खिलाफ ब्लैकमेल और उगाही का मामला दर्ज किया है.

वहीं इस मामले में लखनऊ में डीजीपी कार्यालय में जनसंपर्क अधिकारी श्रीवास्तव ने कहा है कि रायपुर जिले के पंड्री पुलिस स्टेशन में वर्मा के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 384 और 506 के तहत मामला दर्ज किया गया है. 

आंदोलन कवर कर रहे पत्रकार की हत्या के बाद धारा 144 लागू, इंटरनेट बंद

आंदोलन कवर कर रहे पत्रकार की हत्या के बाद धारा 144 लागू, इंटरनेट बंद

सूत्रों ने बताया कि  पत्रकार वर्मा छत्तीसगढ़ सरकार के एक वरिष्ठ मंत्री के खिलाफ स्टिंग ऑपरेशन की योजना बना रहे थे. वर्मा मंत्री से धन उगाही की कोशिश कर रहे थे. पुलिस ने उनके पास से कई सीडी, पेन ड्राइव और कुछ दस्तावेजों को जब्त कर लिया है.

सिंह ने कहा, ‘‘पत्रकार के घर से बड़ी संख्या में सीडी बरामद की गई है. हम उस सामग्री की छानबीन कर रहे हैं, ताकि पता लगाया जा सके की इनका संबंध उच्च वर्ग के लोगों से जुड़े किसी सेक्स घोटाले से है या नहीं.’’