रायपुर: छत्तीसगढ़ में बस्तर टाइगर के नाम से विख्यात शहीद महेंद्र कर्मा के पुत्र को डिप्टी कलेक्टर के पद पर विशेष नियुक्ति के मामले को लेकर सियासत गर्म है. सत्तापक्ष और विपक्ष में बयानबाजी होड़ लगी हुई है. इस मसले पर कांग्रेस के संचार विभाग अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने सोमवार को पूर्व सरकार के निर्णय पर कड़ी प्रतिक्रिया दी.

त्रिवेदी ने कहा कि झीरम की घटना के बाद रमन सरकार ने शहीदों के परिजनों को चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी पद पर नियुक्ति का प्रस्ताव दिया था, जो शहादत का अपमान था. प्रदेश में नए कीर्तिमान वाले बहुमत से बनी कांग्रेस की भूपेश सरकार ने पिछली सरकार की गलतियों को ठीक करते हुए प्रदेश को सजाने और संवारने में लगी है. भूपेश सरकार ने झीरम घाटी हमले की जांच के लिए एसआईटी गठित करने के बाद अब शहीद महेंद्र कर्मा के पुत्र को डिप्टी कलेक्टर की नौकरी देने का निर्णय लिया है.