रायपुर: छत्तीसगढ़ सरकार ने कोरोना वायरस के मद्देनजर 31 मार्च तक सार्वजनिक पुस्तकालय, स्वीमिंग पुल, वाटर पार्क और आंगनबाड़ी केंद्रों को बंद रखने का फैसला किया है. राज्य के वरिष्ठ अधिकारियों ने शुक्रवार को बताया कि कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम और नियंत्रण के लिए नगरीय निकायों की सीमा के अंतर्गत सभी सार्वजनिक पुस्तकालय तथा सरकारी, अर्धसरकारी और निजी व्यायाम शालाएं (जिम), तरणताल (स्वीमिंग पूल) और वाटर पार्क अनिवार्य रूप से 31 मार्च 2020 तक बंद रहेंगे. Also Read - अगर IPL 2020 टूर्नामेंट को आगे नहीं बढ़ाया गया तो यह बहुत बड़ी 'नाकामी' होगी : बटलर

अधिकारियों ने बताया कि नगरीय प्रशासन विभाग की सचिव अलरमेलमंगई डी ने राज्य के सभी जिलाधिकारियों, नगर निगम आयुक्तों और नगर पालिका परिषद-नगर पंचायतों के मुख्य नगर पालिका अधिकारियों को पत्र भेज कर इस संबंध में आवश्यक कदम उठाने का निर्देश दिया है. Also Read - Coronavirus Alert: आधे से ज्यादा मरीजों में नहीं दिखते कोरोनावायरस के लक्षण, पर होता है उन्हें संक्रमण, कितना बढ़ा खतरा?

बता दें कि इससे पहले राज्य सरकार ने गुरुवार को राज्य में परीक्षाओं को छोड़कर सभी स्कूल और कॉलेजों को आगामी 31 मार्च तक बंद करने का फैसला किया था. विधानसभा के अधिकारियों ने बताया कि कोरोना वायरस से बचाव के लिए बजट सत्र के दौरान 17 मार्च से 25 मार्च तक अवकाश रखने का फैसला किया गया है. Also Read - Coronavirus: चार साल के मासूम ने साइकिल खरीदने के लिए जुटाए थे पैसे, मंत्री के हाथों में सौंप दिए

होली के अवकाश के बाद 16 मार्च को विधानसभा की बैठक होगी तथा 17 मार्च से 25 मार्च तक अवकाश रहेगा. विधानसभा का बजट सत्र 24 फरवरी से एक अप्रैल तक तय है. अधिकारियों ने बताया कि इसके साथ ही सभी आंगनबाड़ी और मिनी आंगनबाड़ी केन्द्रों को 31 मार्च तक तत्काल प्रभाव से बंद रखने का फैसला किया गया है. इस अवधि में लाभार्थियों के बीच प्रावधान के अनुसार भोजन वितरण जारी रहेगा.

अधिकारियों ने बताया कि वजन त्योहार और पोषण अभियान के अंतर्गत पोषण पखवाड़ा के कार्यक्रमों को आगामी आदेश तक स्थगित रखने का निर्देश दिया गया है. राज्य सरकार ने कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम और नियंत्रण के लिए वाहनों में भी बेहतर साफ-सफाई का निर्देश दिया है.

इस संबंध में परिवहन आयुक्त ने सभी क्षेत्रीय, अतिरिक्त क्षेत्रीय और जिला परिवहन अधिकारियों, सार्वजनिक परिवहन सेवा से जुड़े सभी संचालकों-मालिकों और यातायात-परिवहन संघों को परिपत्र जारी कर कहा है कि वे अपने वाहनों में बेहतर साफ-सफाई रखें.

छत्तीसगढ़ में कोरोना वायरस का एक भी मामला सामने नहीं आया है. स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के मुताबिक अभी तक राज्य में 44 लोगों का नमूना जांच के लिए भेजा गया है जिनमें से किसी में भी कोरोना वायरस की पुष्टि नहीं हुई है.

अधिकारियों ने बताया कि रायपुर स्थित हिदायतुल्लाह राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय (एचएनएलयू) के दो छात्रों और सुकमा जिले में पदस्थ सीआरपीएफ के जवान समेत नौ लोगों की जांच रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है.