रायपुर: ‘‘मम्मी, मैं आपसे बहुत प्यार करता हूं. इस हमले में मेरी मौत हो सकती है…लेकिन इसका मुझे कोई डर नहीं है.’’ दूरदर्शन के कर्मी मोर मुकुट शर्मा ने यह मार्मिक संदेश गड्ढे में लेटे हुए रिकॉर्ड किया. उनका चेहरा टीवी कैमरे की लेंस से कुछ इंच की दूरी पर था. नक्सलियों और पुलिस के बीच मुठभेड़ के दौरान वहां और उनके आसपास जो कुछ भी हो रहा था, वह कैमरे में कैद हो रहा था.

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले में मंगलवार को नक्सलियों द्वारा घात लगाकर किये गए हमले में डीडी न्यूज के सहायक कैमरामैन शर्मा (35) और पत्रकार धीरज कुमार बच गए, लेकिन उनके साथी कैमरामैन अच्युतानंदन साहू की मौत हो गयी. डीडी न्यूज के कर्मी प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनावों की कवरेज के लिए नयी दिल्ली से राज्य के दौरे पर गए थे. उन लोगों को राज्य की राजधानी रायपुर से 450 किलोमीटर दूर नीलावया गांव में जाना था.

लेटे हुए शर्मा ने अपनी मां के लिए संदेश में कहा, ‘‘यहां नक्सली हमला हो गया है. चुनाव कवरेज के लिए हमलोग दंतेवाड़ा में हैं. चुनाव कवरेज में हमारे साथ आर्मी है और नक्सलियों ने अचानक घात लगाकर हमला कर दिया है.’’ गोलियों की तड़तड़ाहट के बीच यह कहते हुए सुना गया, ‘‘हम लोग सभी तरफ से घिर चुके हैं. इस स्थिति में बचना मुश्किल है. यहां छह-सात जवान हैं.’’

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में नक्सली हमले में दो जवान शहीद, दूरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत

इस संदेश में शर्मा ने यह भी कहा, ‘‘मम्मी अगर मैं बच गया, तो गनीमत है. मम्मी मैं आपको बहुत प्यार करता हूं. हो सकता है इस हमले में मैं मारा जाऊं. परिस्थिति ठीक नहीं है. पता नहीं क्यों, मौत को सामने देखते हुए डर नहीं लग रहा है.’’ इस रिकॉर्डिंग को दूरदर्शन ने ट्विटर पर पोस्ट किया है.

दंतेवाड़ा: 100 से ज्यादा नक्सलियों ने एक साथ शुरू कर दी गोलीबारी, दो-तीन के मारे जाने की भी आशंका

पुलिस के अनुसार मीडिया टीम नीलावया गांव के लोगों से बातचीत करना चाहती थी जिन्होंने पिछले 20 साल में कभी वोट नहीं किया. इस वीडियो में कुमार को कहते हुए सुना गया कि साहू सुबह लगभग दस बजे विजुअल्स रिकॉर्ड कर रहा था. अचानक वह जमीन पर गिर पड़ा और खून बहने लगा.