रायपुरः छत्तीसगढ़ सरकार ने राज्य में कोराना वायरस से बचाव के लिए नवरात्रि के दौरान प्रसिद्घ डोंगरगढ़ देवी मंदिर में मेला नहीं लगाने का फैसला किया है. राज्य के वरिष्ठ अधिकारियों ने सोमवार यहां बताया कि कोरोना वायरस के संक्रमण से नागरिकों की सुरक्षा के लिए राजनांदगांव जिले के डोंगरगढ़ में चैत्र नवरात्रि पर्व पर होने वाले मेले सहित जिले में होने वाले सभी मेलों का आयोजन स्थगित कर दिया गया है. Also Read - कोरोना वायरस: यूजर्स कहां-कहां गए, किनसे रखे रिश्ते, ये सब शोधकर्ताओं को बताएगा फेसबुक

अधिकारियों ने बताया कि बम्लेश्वरी मंदिर डोंगरगढ़ में यात्रियों की सुविधा के लिए लगाए गए रोपवे 17 मार्च से आगामी आदेश तक बंद रहेगा. उन्होंने बताया कि राजनांदगांव के कलेक्टर जयप्रकाश मौर्य ने कोरोना वायरस से बचाव के कारण पैदल यात्रा और कार सेवा को स्थगित करने का निर्णय लिया है. पदयात्रा मार्ग में पदयात्रियों के लिए किसी भी प्रकार की कोई सुविधा उपलब्ध नहीं रहेगी. इसके लिए शहर में प्रवेश करने वाले रास्तों पर चेक पोस्ट लगाए जाएंगे. अन्य स्थानों से दर्शन करने के लिए आने वाले पैदल यात्रियों और गाड़ियों पर रोक लगाई जाएगी. Also Read - AgustaWestland: कोरोना का हवाला देने वाले क्रिश्चियन मिशेल की अंतरिम जमानत याचिका खारिज

अधिकारियों ने बताया कि नवरात्रि के दौरान मंदिर खुले रहेंगे पूजा-पाठ किए जाएंगे. लेकिन सीढि़यों पर लगने वाली खाद्य सामग्रियों की दुकाने बंद रहेंगी. खुला प्रसाद भी वितरित नहीं किया जाएगा. मंदिर में दर्शन के लिए मास्क और सेनेटाइजर लगाए जाएंगे. सर्दी, खासी से पीड़ित लोगों को मंदिर जाने से पहले मेडिकल चेकअप कराना होगा. Also Read - 'हू इज योर डैडी' की एक्ट्रेस दिविना ठाकुर को क्यों लग रहा है इस बात से डर, कही ये बड़ी बात

उन्होंने बताया कि मंदिर की साफ-सफाई की विशेष व्यवस्था रहेगी. मंदिर में ऊपर से नीचे तक सीढि़यों में सेनेटाइजर और हाथ धोने की व्यवस्था होगी. कर्मचारियों को भी मास्क दिया जाएगा. उन्होंने बताया कि डोंगरगढ़ मंदिर के अलावा जिले के अन्य जगहों पर लगने वाले मेले को भी प्रतिबंधित किया गया है. नवरात्र पर्व के दौरान स्थानीय स्तर पर होने वाले कार्यक्रमों पर भी रोक लगाई गई है. लोगों से अपील की गई है कि वे अपने घरों में ही पूजा-पाठ करें. उधर राज्य के स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने सोमवार को यहां बताया कि छत्तीसगढ़ में अभी तक किसी भी व्यक्ति में कोरोना वायरस के संक्रमण की पुष्टि नहीं है.

अधिकारियों ने बताया कि राज्य में अभी तक कोरोना प्रभावित देश की यात्रा करके आने वाले कुल 76 व्यक्तियों का नमूना जांच के लिए भेजा गया है, जिसमें से 66 नमूनों का परिणाम नेगेटिव है तथा छह परिणाम अप्राप्त हैं. वहीं सात व्यक्तियों के नमूनों जांच नहीं की गई है. उन्होंने बताया कि सोमवार को कुल 10 नए नमूनों का परिणाम आया है, जिनमें सभी नेगेटिव हैं.

छत्तीसगढ़ सरकार ने कोरोना वायरस से बचाव के लिए नगरीय निकायों की सीमा के अंतर्गत स्थित सभी सार्वजनिक पुस्तकालय (लाइब्रेरी) तथा शासकीय, अर्धशासकीय और निजी व्यायाम शाला (जिम), तरणताल (स्वीमिंग पुल), वॉटर पार्क और आंगनवाड़ी केंद्रों को 31 मार्च तक बंद रखने का फैसला किया है.

वहीं राज्य के सभी विश्वविद्यालय और महाविद्यालयों को भी 31 मार्च तक बंद रखने के आदेश दिए गए हैं. जारी आदेश में विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों में परीक्षा संचालन के लिए सभी शैक्षणिक तथा गैर शैक्षणिक स्टाफ को नियमित रूप से उपस्थित होने को कहा गया है. केवल कक्षाओं का संचालन स्थगित करने को कहा गया है. वहीं विधानसभा में बजट सत्र के दौरान सदन की कार्यवाही 25 मार्च तक के लिए स्थगित कर दी गई है.