नई दिल्ली: मुख्यमंत्रियों के चयन को लेकर सोनिया गांधी और राहुल गांधी की वरिष्ठ नेताओं के साथ लंबी माथापच्ची के बाद गुरुवार रात मध्य प्रदेश के नए सीएम के लिए कमलनाथ के नाम की घोषणा की गई. हालांकि, राजस्थान और छत्तीसगढ़ को लेकर अब भी संशय बना हुआ है. राजस्‍थान में सीएम पद की रेस में अशोक गहलोत को आगे बताया जा रहा है, लेकिन गुरुवार को दिन भर बैठकों के दौर के बावजूद सहमति नहीं बन सकी. सचिन पायलट गुरुवार रात को भी राहुल गांधी से मिले. इसके बाद अशोक गहलोत भी आए, लेकिन दोनों ने कुछ भी बताने से इंकार कर दिया. वहां अब शुक्रवार दोपहर तक नए सीएम के नाम की घोषणा हो सकती है. छत्‍तीसगढ़ में भी मामला शुक्रवार के लिए टाल दिया गया है.

इससे पहले, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कमलनाथ और सिंधिया के मुलाकात की. इसके बाद दोनों नेताओं के साथ तस्वीर शेयर कर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि ‘‘धैर्य और समय दो सबसे शक्तिशाली योद्धा’’ होते हैं.

राजस्‍थान: सीएम पद की दौड़ में अशोक गहलोत आगे, ‘पायलट’ बनने से चूक गए सचिन!

गांधी ने राजस्थान के लिए पर्यवेक्षक नियुक्त किए गए केसी वेणुगोपाल तथा प्रभारी महासचिव अविनाश पांडे और मुख्यमंत्री पद के दावेदार माने जा रहे दोनों नेताओं अशोक गहलोत एवं सचिन पायलट से मुलाकात की, हालांकि मुख्यमंत्री को लेकर सहमति नहीं बन सकी है. इस बीच, कुछ स्थानों पर समर्थको के हंगामे के कारण सचिन पायलट और अशोक गहलोत ने कार्यकर्ताओं से शांति एवं अनुशासन बनाए रखने की अपील की.

नितिन गडकरी के बिगड़े बोल, कहा- ‘माल्‍याजी’ ने एक बार ही समय पर कर्ज नहीं चुकाया, उन्‍हें चोर कहना ठीक नहीं

छत्तीसगढ़ के लिए पर्यवेक्षक बनाए गए मल्लिकार्जुन खड़गे और प्रभारी पीएल पुनिया ने भी राहुल से मुलाकात की. सूत्रों का कहना है कि ये दोनों नेता शुक्रवार को एक बार फिर गांधी के साथ बैठक कर सकते हैं. भूपेश बघेल, टी एस सिंह देव, ताम्रध्वज साहू और चरणदास महंत मुख्यमंत्री पद की दौड़ में शामिल माने जा रहे हैं.