नई दिल्ली: देश में कोरोना वायरस के कारण लॉकडाउन लगा हुआ है. ऐसे में मजदूर वर्ग व श्रमिक वर्ग के लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. बीते दिनों हमने देखा कि कई लोग पैदल ही अपने अपने घरों की ओर जाने लगे थे. कुछ ऐसा ही मामला तेलंगाना और छत्तीसगढ़ के बीच में देखने को मिला. यहां एक 12 साल की बच्ची की पैदल चलने के दौरान मौ हो गई. Also Read - 70 साल के बुजुर्ग ने मानसिक रूप से विक्षिप्त 19 साल की लड़की का किया रेप, प्रग्नेंट होने पर कराया अबॉर्शन; भ्रूण को जलाया

दरअसल मृतक बच्ची जमलो मकदम छत्तीसगढ़ की रहने वाली है. वह अपने समूह के लोगों के साथ तेलंगाना के कन्नईगुडा में मिर्च के खेतों में काम करती है. लॉकडाउन जब 14 अप्रैल को खत्म हुआ और जब दोबारा 15 अप्रैल से लॉकडाउन 2.0 की शुरुआत हुई तो बच्ची अपने समूह के साथ पैदल छत्तीसगढ़ के बीजापुर के लिए रवाना हो गई. Also Read - Telangana Lockdown Update: तेलंगाना में रविवार से खत्म हो जाएगा लॉकडाउन, 1 जुलाई से खुलेंगे शैक्षणिक संस्थान

पैदल चलकर जमलो मकदम और उसके समूह ने 150 किलोमीटर तक की दूरी तय कर ली. 18 अप्रैल के दिन सुबह बीजापुर पहुंचने के लिए मात्र 50 किलोमीटर और चलना था. लेकिन भंडारपाल गांव के पास की डिहाइड्रेशन यानी शरीर में पानी की कमी के कारण मौत हो गई. अधिकारियों की मानें तो पैदल धूप में चलने के कारण बच्ची के शरीर में पानी की कमी हो गई थी. इस कारण उसकी मौत हो गई. Also Read - Chhattisgarh: शादी में आए तीन युवकों ने दो लड़कियों से किया रेप, कार में घुमाने का झांसा देकर ले गए थे जंगल